Monday, August 28, 2017

YOU ARE WELLCOMED IN SPIRITUALITY

             You Are WELLCOMED In Spirituality
                           ------------------------------------

 

* SHRISTI CHAKRA *
 Realization of Divine soul Chakra
Showing on base of Self-Realization during meditation in this beautiful video giving below, which we are observing since 1990.
***************
                   In fact our divine soul circulate like a Galaxy, circulate like the Sun. We can say it, the Main- Divine- Power, " THE POWER OF VIVEKA." We can observe Soul Chakra circulating during meditation, being INTROVERTED by Self-Realization, in‌। Internal Divine Universe, in all kind of Shristies (In all created-bodies), like Thal-Char, JAL-Char, Nab-Char.
      ---------------
      Self Divine Realization
     *****************
     
   
          Spiritual Truth
  
                                                 Das Anudas Rohtas

Saturday, August 26, 2017

What is the difference between incarnation and appearience of God


What is the difference between incarnation and appearience of God     ----------------------------------------

Que: - By Sharad Tivari Ji ... QUESTIONS *** REPLY *** Doubtful solution *** Facebook on: -------
                                ****************

    Answer by Avtari Purush Rohtas: --------
    

           Shriman G Persann is very fine. Here are two things to look for in both meanings are differents.

1. The manifestation of God: -
  

               The first thing is that the Superior Supreme Soul God is the God, in the true people, on the basis of their Divine Soul, as the astrologer, is steadfastly known. This divine supreme power never embodies, but only the divine form is embodied in the universe and Mahapalalaya Up until then, they are descended in every epoch. At the time of creation, God prepares one of His own divine powers and divine qualities, just like Similarly to Him, and giving ownership of creation to Adhi-God, who is Lord Supreme Soul, "The Formated God" Creates compositions which possess the powers of the three divine powers.
                * Generator, Operator, Destroyer *
Those who are known in Hinduism as Tirimurati-God, Lord Bharma, Lord Vishnu, Lord Mahesh, Jodi Tridev, Trigun-maya-Dhari Bhagwan. In short, everyone knows, in which the main-power Lord Vishnu has been considered. This same God is completely reconciling all his divine qualities and divine powers in His own right, due to his exquisite intentions, doing his utmost kindness before his ultimate bhagti, sometimes after the age-time, in this beautiful creation, his divine, etc. Shakti forms appear formless in body from Divine Beauty, beautiful, "Mohini Roop". And to see your ultimate bhaktat, do karnatra, and get meditation. 
            In every era, God is praised by the exquisite pleasure of his present-day ultimate affectionate person, and in order to make his confidant, in this beautiful creation, he appears in his beautiful, grand, divine, fascination, reality, "Manusha Roop-Narayani Roop" . Dharmavatara in Satyuga appeared here on the occasion of Shri Raja Harishchandra ji and the king sacrificed his kingdom and sacrificed all pleasures. In Treta Era appeared before Kaushalya Mata Ji and Prasottam Avatar appeared before Shri Ram ji and Ram ji also sacrificed the rajdharma and spent all his life as a living person. In the medicines, in the era, Vasudev ji and Devaki ji appeared before and the supreme incarnation lord Krishna became a confidant and spent all the lives in the forests and in the affection of the beasts and later became king, and also sacrificed the religion. And now in the present era of Kaliyuga, God has appeared in the above mentioned great Divine Powers very beautiful divine Narayani form which is depicted in the image above in 1996.

Special :----- - It is the matter of self appearience of God, We can Observed after kindness and blessings by God only, with our physical eyes in External universe, and not to Show others. 
                                -----------------------------
2. God's Incarnation : --------

              Now, we want to explain briefly about God's incarnation here, it is God's Superior Supreme Soul, "Supreme God" and when Lord become incarnate, then God Himself create one of His Divine Form, namely The Formated God composition spawn and that Aadhi Bhagavan then created His divine Triguni Maya known composed spawn name of Brahma Vishnu Mahesh God in Hinduijm. These both powers appear absolutely " Divine-Dot " in internal divine universe Vit is the Divine Ring as an External divine Power that, known as a Adisthan. We can only realize both these divine power. When a creature is multiplied, at the right time God is the ultimate element in place of this free body instead of element which is due to Adhi-God and the well-being body, which is also God's Divine Spirit,

Special :----- - Its the matter of self realization after the kindness and blessing by God, in inner divine universe with divine Eyes being introverted and not to show others.
  

              Now the divine power of God, The Formated God, embodies the embodiment. There is also a difference in this divine Kirya. According to Divinity, our bodies are also of two types, 1 Divine causal body, 2  Divine body is the body of Natural Virtuous bodies as Jiwatma, so in this way the incarnated body is a divine cause of physical body through with second divine body which happens through the bondage of natural properties. When the soul is engrossed with mail, it is the incarnation of the Divine Spirit, Incarnation of God says it happens when God created the universe in the universe Interpretation would then God knoweth that he send the creature to be born in a Sanskari Family so the world body, which is favorable, From the childhood to the time of embodiment of the incarnation, all the divine yoga transforms the adjacent verbs by multiplying the soul by multiplying by its own self. When it is multiplied, in this state the self element is free from the bondage of natural qualities. And it is possible to get yoga from the unrealized ultimate soul and in such a way, the supreme soul Lord can also be descended and the pride of being called an avatarari man is attained. Be careful ... 1 ... In such a state, it may be a disaster even if you are misguided; 2 ... God gives life-giving gift to the free creatures by giving Divinity and giving life to the creature, the divine person or the factor man-made in all the world, or by giving salvation, by providing re-life,
      Thanking You 
                            Universal Truth 
                                              Das Anudas Rohtas
   
Please Share

Thursday, August 24, 2017

* The God * What is the difference between incarnation and appearience of God

What is the difference between Incarnation and appearience of God.
                        --------------

Que :- by Sharad Tivari Ji... in प्रशन्न पूछें *** उत्तर पाएं *** शंका समाधान ***on Facebook :-------
    
  Answer by Avtari Purush Rohtas :--------


नमस्ते जी
              श्री मान जी प्रशन्न सुन्दर है। इसमें देखिये जी दो बातें हैं भगवान का सृष्टि में प्रकट होना और भगवान का अवतर्ण होना।  दोनों का अभिप्राय: अलग अलग है। उल्लेख करने का प्रयास करते हैं।

                          * The God *

1. भगवान का प्रकट होना:-


            पहली बात तो यह है Superior Supreme Soul God भगवान तो, सत्य लोक में अपने दिव्य अक्षांश पर As a Divine Dot सूक्षं बिन्द के रूप में स्थितप्रज्ञ, स्थिर रूप से विद्धमान हैं। यह दिव्य परम शक्ती कभी अवतार नहीं लेती केवल इनका दिव्य प्रारूप ही सृस्टि में अवतरित होता है और महाप्रलया तक अगेन एडं अगेन हर युग में अवतरित होते हैं। सृष्टि उत्पत्ति के समय भगवान अपनी समस्त दिव्य शक्तियों व दिव्य गुणों से सम्पन्न एक अपना प्रारूप बिल्कुल ठीक अपने जैसा, खुद तैयार करते हैं और सृष्टि का स्वामित्व प्रदान करते हुए, Adhi-God, जो Lord Supreme Soul है, " The Formated God " की रचना रचते हैं जिसके पास तीनों आदि ईश्वर के समस्त divine Quality 
All divine powers के अधिकार प्राप्त होते है। 

  *  Generator, Operator, Destroyer *

             जिन्हे हिन्दूईजम में त्रीमूरती भगवान, भ्रह्मा, विष्णु, महेष, जो त्रीदेव, त्रीगुणीमाया धारी भगवान के नाम से भी जाने जाते हैं। संक्षिप्त में सब जानते हैं, कि जिनमें Main-power विष्णु भगवान को माना गया है। यही भगवान अपने सभी दिव्य गुणों और दिव्य शक्तियों को अपने में पूर्णत: समेट कर, वश में कर, अनन्य भग्ति के कारणवश अपने परम भग्त के समक्ष अपनी परम कृपा करते हुए, युग-युगान्तर के बाद कभी न कभी संयोगवश इस सुन्दर सृष्टि में अपने दिव्य, आदि शक्ति स्वरूप निराकारा शरीर से दिव्य मनोहारी, सुन्दर साकार, " मोहिनी रूप " में साक्षात प्रकट होते हैं। और अपने परम भग्त को प्रोत्साहित करने हेतू दर्शन दे, कृतार्थ कर, अन्तर्ध्यान हो जाते हैं। 
            भगवान हर युग मे अपने स्थितप्रज्ञ परम स्नेही भग्तजन की अनन्य भग्ति से प्रशन्न हो, उसे अपना विश्वासपात्र बनाने हेतू इस सुन्दर सृस्टि में , अपने अति सुन्दर, भव्य, दिव्य, मोहनी, साकार रूप ," मानूषं रूपं- नारायणी रूप " में साक्षात प्रकट होते हैं। सत्युग में धर्मावतार श्री हरीश्चन्द्र जी के यहां विश्वामित्र के रूप में प्रकट हुए और राजा ने राजधर्म त्याग करते हुए राज महल राजपद् राज सुख सभी सुखों का त्याग कर दिया। त्रेता युग में कौशल्या माता जी के समक्ष विष्णु रूप में प्रकट हुए और प्रसोत्तम अवतार श्री राम जी के समक्ष महाकाल रूप में प्रकट  हुए और राम जी ने भी राजधर्म का त्याग कर और समस्त जीवन बनवासी जीवन के रूप व्यतीत कर, पवित्र सर्यू नदी में देह का त्याग किया। और दवापर युग में वासुदेव जी और देवकी जी के समक्ष भी लार्ड विष्णू के रूप में प्रकट हुए और परम अवतार कृष्णा ने भी विश्वासपात्र बन समस्त जीवन जंगलों में गईयां और ग्वालों के स्नेह में व्यतीत किया और बाद में राजा बन,  राज धर्म का भी त्याग किया। और अब भगवान वर्तमान युग कलयुग में भी भगवान अपने निम्न भव्य दिव्य बहुत सुन्दर नारायणी देह सहित दिव्य रूप से जो नीचे इमेज में दर्शाया गया है सन् 1996 में साक्षात प्रकट हो चुके हैं।


विशेष -----------
          It is the matter of self appearience of God, We can Observed after kindness and blessing by God only, with our physical eyes in this External universe, (in Physical World), but can not to Show other.

2. भगवान का अवतर्ण : -

              अब हम आप को यहां पर भगवान के अवतर्ण के बारे में संक्षिप्त में बताना चाहते हैं भगवान तो  " Superior supreme Soul God " हैं और स्थिर रूप में अपने दिव्य अंक्षाश पर स्थित हैं, विद्धमान हैं।  जब भगवान अवतार लेते हैं तब स्वयं भगवान अपने अनुरूप अपना एक प्रारूप His Similarly Divine Form, अर्थात The Formated God की रचना रचते हैं Lord Supreme Soul, आदि भगवान, Divine Dot and Divine Ring की सहायता से रचना रचते हैं और यह आदि भगवान खुद अपनी त्रीमूर्ती भगवान की रचना रचते हैं जो हिन्दूइजम में ब्रह्मा विष्णु महेष, देव आदिदेव त्रीदेव भगवान के नाम से जाने जाते हैं। यह दोनो शक्तियां एक दम प्रकट होती हैं Divine Dot in internal divine Universe को रोशसन्वित करता है जबकि Divine Ring as an External Power जो अधिस्थान के रूप मे बाह्य शक्ति के रूप में, बाह्य संसार को रोशान्वित करता है। We can only realized both these divine powers being Introvert. जब कोई जीव गुणातीत होता है, ठीक ऐसे वक्त भगवान इस मुक्तानन्द शरीर को, मुक्त तत्व की जगह परम तत्व जो Adhi-God का कारण शरीर है और सूक्षम शरीर हैं, जो भगवान की दिव्य जीवात्मा भी कह सकते हैं, मुक्त शरीर को प्रदान कर तत्व की अवतर्ण क्रिया को पूर्ण करते हुए, Divine-Dot and Divine-Ring- Powers रूपी दिव्य शक्तियां जो भगवान की दिव्य परम तत्व और दिव्य विवेक शक्ति है मुक्त जीव को प्रदान कर, आदि ईश्वर स्वयं अवतरित हो, अवतार धारण कर,  सृष्टि में अपने परम भग्तों के बीच, दिव्य लीला अवलोकन करने का अवसर प्रदान करते हैं।

विशेष -----------
              Its the matter of self realization after kindness and blessing by God we can realzed in internal divine universe with divine eyes being introverted and not to show others.


                 अब भगवान की यही दिव्य आदि शक्ति The Formated God ही अवतार धारण करती है। इसमें भी एक अन्तर है। दिव्यता के अनुसार हमारे शरीर भी दो प्रकार के होते हैं, १ दिव्य कारण शरीर, २ दिव्य सुक्षम शरीर और स्थुल शरीर होते हैं इसी प्रकार अवतरित शरीर एक दिव्य कारण शरीर और दूसरा दिव्य सुक्षम शरीर जो प्रकृतिक गुणों के बन्दन से होता है इन दोनों के मेल से जीवात्मा जब स्थूल शरीर में अवतरित होती हैं यही दिवय जीवात्मा को अवतार धारण करना, Incarnation of God कहते हैं ऐसा तब होता है, जब सृष्टि में भगवान अपनी लीला रचना चाहते हैं तो भगवान अन्तर्यामी हैं वह वैसा शरीर संसार में किसी संस्कारी परिवार में जन्म लेने के लिये उस जीव को भेजते है जो अनुकूल होता है, जो बचपन से लेकर अवतार धारण करने के वक्त तक सभी दिव्य योग आसन्न क्रियाओं को रूपान्तर करता हुआ अनन्य भग्ति द्वारा अपनी जीवात्मा से गुणातीत हो जाय। जब गुणातीत होता है तो इस अवस्था में आत्म तत्व प्राकृतिक गुणों के बन्धन से मुक्त होता है। और संशयरहित परम आत्मा से योग होना सम्भव हो जाता है और ऐसे में The supreme soul Lord स्वं भी अवतरित हो सकती हैं और अवतारी पुरुष कहलाने का गौरव प्राप्त हो जाता है। सावधान...१...ऐसी अवस्था में जी के पथभ्रष्ट होने पर अनर्थ भी, हो सकता है जी। २... भगवान मुक्त जीव को दिव्यता प्रदान कर दोबारा विष्व मे सभी  गुणों से सम्पन्न युक्त जीव को, दिव्य पुरुष का या कारक पुरूप के रूप में जीवन दान प्रदान कर देते हैं या, मोक्ष पद प्रदान कर, re-life प्रदान कर, अवतार के रूप मे एक महापुरुष के रूप में वापिस उसी शरीर को  जिवात्मा से उसी शरीर रूपी सृष्टि में दोबारा से संसार में भेज देते हैं जो अपने जीवन काल को पूर्ण कर स्वर्ग आदि ऊंचे धामों मे रहता हुआ, प्रलय:काल में अपने मोक्ष पद्ध् के अधिकार को प्राप्त कर सदुपयोग करता हुआ, परम आत्मा में लीन हो, भगवान की परम सत्ता से योग कर, परमानन्द को प्राप्त करता हुआ, परम शान्ती को प्राप्त होता है।

     धनयवाद सहित।

               Universal Truth

                                दास अनुदास रोहतास

Avtari Purush Rohtas at 12:37 AM

 Please Share

Wednesday, August 23, 2017

Is Avtari Purush Rohtas True AVATAR or not

Que: --- Is Avtari Purush Rohtas True Avatar or not

Answer: On Achitiananad Swami Ji's post,
Question by Govind Jpsj Kotuwal: ------- Avatari Purusha Parnams You, Why You Have Recanted This Avatari Purusha, Your Name Is Only or Has Titled It May Know, Or In Truth You Are Incarnate Please extend a little bit, please! Facebook..23-8-17
                      ******************
  Answer by Rohtas :----
  Regards Pranam, 

          As time is running, according to the time, you are rightly asked. So we should tell you that some great souls inspired us, and wanted to remind us saying, that " you are an avatara Purush." Yes, We too thought it strangely before. Later, as the divine experiences became, I understood it is okay to write. So we write it. So this name was written to address only on the basis of personal divine Realization which can be real. No titles or worldly divine phenomena to give or threaten, You can go to our bottom side and repeat them, you can anticipate based on our personal Divine experiences, which can be true too. The world is very big and every Maha Purus has to face the challenges in every age, one of them can also be the self Soul-element . 
      With thanks giving

                               Das Anudas Rohtas 
                                      ***********

If you want, you can also share the post-question & answer and  post all over the world. 
                         ------------------------------------------
Avtari Purush Rohtas at 3:12 AM
Share

Que:---Is Avtari Purush Rohtas is True AVATAR or not


On reply Achityananad Swami Ji's
Question by Govind Jpsj Kotuwal :-------Untitled Noteअवतारी पुरूष आपको प्रणाम आपने ये अवतारी पुरुष क्यों लेखा है आपका नाम ही है या टाइटिल रखे है ये जान सकता हू ,या सच में आप अवतार ही है थोड़ा विस्तार कर दिजिए तो कृपा करके ! Facebook..23-8-17
   
Answer by Rohtas
सादर प्रणाम जी,

          जैसा समय चल रहा है समय के अनुसार, आप ने ठीक पूछा । इतना हम आपको बतादें हमें कुछ महान आत्माओं ने प्रेरित किया,और याद दिलाना चाहा, कि आप एक अवतारी पुरुष हैं । हमें भी पहले यह अजीब सा लगा। बाद में जैसे जैसे दिव्य अनुभव होते गये, हमने समझा ठीक है लिख देते हैं। सो लिख दिया। अत: यह नाम व्यक्तिगत दिव्य अनुभव के आधार पर ही सम्बोधित करने के लिये लिखा गया जो वास्तविक हो सकता है। कोई टाइटिल या संसारिक दिव्य अनुभूतियों को धोका देने या उकसाने के लिये नहीं । आप हमारी निचे दी गई साईड पर जाएं और उन्हें दोहराने से, हमारे व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर अन्दाजा लगा सकते हैं, जो सत्य भी हो सकता है। संसार बहुत बडा है और हर युग में हर महापुरुष को चुनितियों का सामना करना पडा है उनमें से एक आत्म तत्व यह भी हो सकता है।
      धन्यवाद् सहित

                          दास अनुदास रोहतास
                               ************


चाहो तो आप उपरोक्त् प्रश्न्नोत्तर को पूरे विश्व में Share भी कर सकते हो।
                         ------------------------------------------

Tuesday, August 22, 2017

Which route is More Suitable in Spiritual World, Bhagti Marg or Knowledge Marg

Which route is more suitable in the spiritual world, Bhagti Marg or Knowledge path
Shikshan Chauhan - Spiritual Sagar Prashanthauti Shashanka Samstha

 Answer by Rohatas - -----

Jai Shri Krishna,

                Srimsn live here a few poignant words suitable Which Yoga path of Kaunsha yoga path, Bgtiyog path or jnana path based on spirituality such must be great that we can be taken in your life philosophy as divine become Srwsresht only way Lord , Or the Lord will be interviewed. "We have written before, even if the praises are correct, then its answer will be correct." On the other hand, if we talk about going to God, then God has always been there. * It is not possible to go anywhere, yes its a Matter of Self Realization. Take it from the base of the subject of personal experience that spirituality, so Bgti route can provide the ultimate way to God the opportunity to appear to be only Prsnn from Bgti be Anandvibhor your Bgt
       He's on the Karma Yoga, Jnana Yoga, Sankhya Yoga, Lyyog, Hatha Yoga, called yoga, Bgtiyog any sum to be able to have any experience of all incomplete divine experience only meditation without meditation route ie Bgti And meditation is an important part of yoga Bhagnyoga, therefore Bhagyoga is the best way to best yoga. God's ultimate Bgt, Lgneshu, Jigyasu, most affectionate Bgt people often :, has since been adopted as Sristi remains till today, Bgtimarg and receive divine experience being introvert in his spiritual life, enjoy Bgti peace dear life to Hang There are income which is peaceful in the world: Enabling environment is possible and which is also the ultimate focus of our lives.
          As far as the person is concerned, even in every era, when God has finished the Bhakti of his ultimate bhakti, in the form of realization, in order to encourage him in front of his bhagat, it is manifested for some moment. Even now in the present era of Kaliyug, It has been manifested in the form but it is possible only after making all the exquisite pleasure, therefore, on the basis of spirituality, the Bhagmati Marg is the only universal route. 
    Thanks,                           
                                 Das Sadas Rohatas
Avtari Purush Rohtas at 6:05 PM
Share

Answer to Swami Achintananad Ji by Avtari Purush Rohtas

Answer by Shree Rohtas Ji:-- to Swami Achintananad Ji Maharaj ******
  The Question of Maharaj is :--  
          What inconsiderable state is possible in the remaining part ?
                           ************** 

Answer by Rohtas:--- 

                   Ask whatever you want to know, ask who you want to ask, it is a matter of being thoughtless, it is not about having a life free, even though we are keeping our thoughts from Lord Krishna, it means to be free from the negative qualities, to be free from thought, five elements of nature Whenever there is no state of unity, anger, greed, attachment, pride, egotism, mind, wisdom and knowledge, when all these qualities will be created by the creator If it is free, then it will be multiplied and the same state will be considered as thoughtless, but here there is animate state of the organ. Therefore it is necessary to have animate in this state of the organism. Uh phase can not be long, while simultaneously with consciousness You can achieve hard work, if you work harder further, if you work harder further then Lord bless you on meeting continuously. The "nectar-juice drink" You can enjoy And hereafter, Param Pitaetrama can give you Divine power while giving Divinity, and you receive Gaurav, called a wise Parivar. Now, the symbols of Divinity can be enjoyed by the divine phenomena and now the people here receive divine grace and the right of eligibility and get the distinction of being called a Divine Man. Here, when there is zero state, when there is zero state, salvation is attained. It is also happening, so here the creature can not remain free from time, it can be a disaster, Here also the body has to be taken care of but God is very compassionate and does not let a child of his ultimate bhaav do not bundle his utmost grace. Here, when the soul is liberated, God gives it life again or sometimes God Their divine formation is transmitted from the body and thus it now also acquires the merits of being called a living Avatar of a human being, When the divine quality is manifested on the other stage, when the Divine Man, Divine Spirit is revealed, the Yoga can also be from avatara man and owner for a moment, in such a way the yogi becomes entitled to be called a man. "It's very difficult to swim" Nevertheless, by the wedding ceremony and exquisite pleasure, Param Sanehi is very easy for Hippant. When Divine Spirit is revealed, Yoga can also be done by avatara men and bosses for a moment, in such a way the yogi becomes entitled to be called a man. "It's very difficult to swim" Nevertheless, by the wedding ceremony and exquisite pleasure, Param Sanehi is very easy for Hippant. When Divine Spirit is revealed, Yoga can also be done by avatara men and bosses for a moment, in such a way the yogi becomes entitled to be called a man. "It's very difficult to swim" Nevertheless, by the wedding ceremony and exquisite pleasure, Param Sanehi is very easy for Hippant.

     "We are writing all this on the basis of personal experience"   
                              Das Sadas Rohatas                                                                       ********
  
Answer to Rohtas Ji by Swami Achintananad Ji Maharaj : ----- Face-book .........
                          *******************
                 Rohtas ji (Avatari Purusha according to you) Ram Rama, on the basis of his experience, has explained about God It seems that you have seen and understood all the people of Param Pita Parmatma! As far as you know, I have not even enrolled myself to reach that state of knowing! 
When I get to know this class, then I will ask you to ask or learn something! 
Until then, ____ 
      
                                       Jai Shree Ram 

We Should adopt Lord Shree Rama's Character not Ravana

We should adopt a Shri Rama character in our life, not Ravan.
Ritish Kumar Gupta Ji ---- Facebook ..... Mr Gorav Krishna Goswami Pujya Sad Gurudev ji Alon Rock 

...... Reply 

                    

by Rohtas: --------

Hello G, 
                 sir, briefly I would like to write This incident has been showing in thousands of films by the dramas, which has made the incident a house well in the hearts of the people. See, the mistake goes away from the natural body for some reason. This is a very old historical event. Even then, Shri Ram Chandra ji was the incarnation of Vishnu, and according to Divya, it is not known to anyone till the last time. Except Shri Kaushalya, Raja Dasharatha Dharma, which was the incarnation of Dharam, who made a piece of his litter to the Durvasa Rishi To get the yoga education was sent to the ashram of the special ji. Due to the fact that they went into the forest in the youth state, where the occurrence of cutting of the nose of sariunakhana occurred in anger, Despite being a very beautiful young man, during his lifetime, Shri Ram never seen an eyebrowed woman, and all his life adopted a Hindu religion. Sarupanaka was a wise princess and Laxman was heart-fed, but Lakshman ji was a Satvik Rajkunar. He did not like this thing, because of the anger, he cut the nose in the form of anger, "Even here, there is no mistake of Shri Ram Ji. This is not the fault of Laxmanji Happened." This is due to the great event of Ramayana's war. But here, you see, "There was no fault of Shri Ram Ji but made the reason. During the time Sri Ram Chandra went behind the elusive golden deer, where Sita was left in the security of Lakshan ji, Laxman ji seeta ji Ram Singh left the place alone and went to Talas and kept Ravana with his Sita Swamber and Sravanakna incident, and took the incident of abducting Sita Ji. " See here what was the fault of Goddess Sita Ji. There was a lot of danger with Sita Devi ji. And here Ravana explained to everyone, but taking an energy demonstration in Ravan and taking an important part of being disgraced, was angry to make a victim of his house, did not listen to the issue of insincerity, which had to suffer this fierce hymn No one is able to blame even today. As far as Sri Ram ji is concerned, in the Treta era, the incarnation of Lord Rama was the incarnation of Lord Rama. Now this is what the incarnation wing is either God knows because God is an Atmani or in the body in which the power of God is revealed, like our Rama he knows, "What a monkey is the taste of the ardh" ie the common man There is a topic out of sense. Since birth, the incarnation born has kept the limit from childhood to the end, Ever looked up and did not even look up. You have won, but these great souls are not aware of what life is. You take every step of Shri Ram Ji deeply, as in the childhood, the yoga of learning in the childhood followed the command of the Guru, the pleasure of Raj Mahal went in the forest, including renunciation Lakshman. All the young mother obeyed the father's obedience and abandoned the house and obeyed the limit, while leaving the house with the bride and the newly married bride, on the request of the parents, the sacrifice of all the sacrificial pleasures In the forest, the sacrifice of King's father's throne was done only to fulfill all this limit. Shri Ram Chandra ji consolidated the demons and brought Sati Anosuiyaya to the good of all mankind. All these were for the good of all mankind. Like following the command of the Guru, the pleasure of Raj Mahal, following the instructions of the Guru, following the command of the father of all the young parents who went to the forest, including the sacrifice of sacrifice, Lakshman, followed the rituals by sacrificing the house, along with the newly married bride bride The sacrifice of the house at the behest of the parents, the sacrifice of all the pleasures, and the renunciation of King's father's daughter-in-law in the forest did only to fulfill all this limit. Shri Ram Chandra ji consolidated the demons and brought Sati Anosuiyaya to the good of all mankind. All these were for the good of all mankind. Like following the command of the Guru, the pleasure of Raj Mahal, following the instructions of the Guru, following the command of the father of all the young parents who went to the forest, including the sacrifice of sacrifice, Lakshman, followed the rituals by sacrificing the house, along with the newly married bride bride The sacrifice of the house at the behest of the parents, the sacrifice of all the pleasures, and the renunciation of King's father's daughter-in-law in the forest did only to fulfill all this limit. Shri Ram Chandra ji consolidated the demons and brought Sati Anosuiyaya to the good of all mankind. All these were for the good of all mankind.
         Now the matter is the abduction of Sita Ji and the abandonment of Sita Ji. Shri Ram Chandra was a king; During his reign, there was no distinction between the rich poor and the small, he regarded his subjects as being of paramount importance to each and every person, if only he would see his beloved: Ardhangani Sita mother's fire examination In spite of the sacrifice. 

Special: -  
We believe when Sita Ji's fire examination was done, then Shri Ram Chandra should not have abandoned Sita Ji on the request of a modest man. 

"Promising future chief, Kamat Bhilkh Muni Hath   Jeevan Marna Bhawan Hai Yoga FailishVidhiHands"

           That is what God has kept. Secondly, if not, then God would take reincarnation. Shri Ram ji has embodied medicines in medicine as well as in the form of Shri Krishna and Shri Ram Chandra has taken or has embraced Avatar in Kali Yuga and during his avatari period, Shri Ram Ji Sita ji, who took a fire examination in Tretayuga. After repenting, Sita would apologize for her mistake. But all this has happened and it is happening just because of limitations.
             On the other hand, there is no mistake of Shri Ram Ji. Lakshman ji took to protect the security line Sita ji, Sita ji embraced the line between Ravana and embraced the line of Lakshman and crossed the line of which Ravan hijacked Sita ji and all the family including Shri Ram Ji, Laxman For Sita ji and what to do to fulfill her limitations. Spent all the lives of Sita ji in remembrance and defense. Second and as far as Ravana is concerned, Ravana was initially a Vibyan noble, the Rajdarbars had received a good reputation, and the best powers were received in the form of blessings from the gods and goddesses, but later due to the importance of one mistake after another Asking Sri Lanka for Sri Lanka as Dakshina, etc. Later, Ravana was called a characterless, ruthless, sinful, unrighteous, deceitful king. She traveled with strangers and looked at the wrong way,

     * Lord Shree Ram Ji is Virtuless (Gunateet) a Holy-Supreme-Soul, while Ravana is Virtuous *

            Infact it is a divine historical phenomenon which is how our Sage Munis have to live their lives in the society. And while living in society, while living in a state of limited happiness, by adopting the virtues of virtue, by adopting the virtues of virtue, by embracing Shri Bhagwan who we are constantly receiving, enjoying our hearts, experiencing ultimate joy , Finding the ultimate comfort, enjoying the pleasures of supreme worship, which is the ultimate focus of our lives. 

   * Therefore, in our life, we should adopt a Ram Rama character, not Ravan *

            In the current era of Kaliyuga, Lord Krishna has given in the medieval medicine given in the era of medicines as given in Chapter 4, -Soloka, 7-8, when there is sin, there is a loss of religion, there is increase in wrongdoing, Then I create my form and manifest it in the form of reality, in such a time, I save the saints and destroy the sinners. I will appear to re-establish religion properly. In order to fulfill this, in 1996, in the form of its very beautiful, Mohani, Divya Sakaj, has appeared in the form of "Manusha-Roop". Thus, this conflict of spiritual life for achieving virtues and virtues, will continue as long as there is creation, yet we should adopt spiritual virtues, living in perfection, doing utmost devotion and living life. By which peace can be achieved in life and peace will be provided in the universe,
      Jai Shri Ram Ji 
                       Shanti 
                                   slave Anudas Rohtas

Monday, August 21, 2017

हमें अपने जीवन में श्री राम चरित्र अपनाना चाहिये रावण का नहीं

Ritish Kumar Gupta Ji----Facebook .....श्री गोरव कृष्ण गोस्वामी पूज्य सद् गुरूदेव जी     Alon Rock ......

           

Answer by Rohtas:--------

नमस्ते जी,
                 श्रीमान जी, संक्षिप्त में लिखना चाहूंगा, यह घटना हजारों सालों से नाटकों द्वारा फिलमों में दिखाते आ रहे हैं जिससे यह घटना लोगों के हृदय में अच्छी तरह घर बना चुकी है। देखिये गलति तो प्राकृतिक शरीर से किसी कारण वश हो जाती है। यह बहुत पुरानी एक एतिहासिक घटना दर्शाई गई है। फिर भी श्री राम चन्द्र जी यहां विष्णु के अवतार थे और दिव्यता अनुसार आज भी हैं यह किसी को अंतिम समय तक मालूम नहीं था सिवाय श्री कौशल्या जी को छोड कर, राजा दशरथ धर्म जो धरम के अवतार थे जिसने अपने कलेजे के टुकडे को दुर्वासा ऋषी के कहने योग शिक्षा लेने विशिष्ट जी के आश्रम में भेज दिया गया।  कारण वश यूवा अवस्था में वे लोग वनों में चले गये जहां पर सरूपणखा के नाक काटने की घटना मजबूर्न क्रोध वस वहां पर घटित हुई, अति सुन्दर नौजवान होते हुए भी अपने जीवनकाल में श्री राम जी ने कभी किसी पराई स्त्री की ओर आंख उठा कर भी नहीं देखा  और समस्त जीवन एक पतिवर्ता धर्म अपनाया। सरूपनखा एक जिद्धी राजकुमारी थी और लक्षमन को दिल दे बैठी लेकिन लक्षमन जी  सात्विक राजकुंअर थे वह इस बात को पसन्ध नहीं करते थय जिससे क्रोध के कारण सरूपन्खां नाक काट दिया,," तो यहां भी श्री राम जी की गलती नहीं यह तो लक्षमनजी से क्रोधवस हुआ।" यही रामायण की युद्ध रूपी महान घटना का कारण बना। लेकिन यहां पर आप देखिये," श्री राम जी का कोई दोष नहीं था लेकिन कारण बना। समय रहते श्री राम चन्द्र जी मायावी सुनहरी मृग के पीछे चले गये वहां पर लक्षमन जी की सुरक्षा में सीता जी को छोडा हुआ था लक्षमन जी सीता जी को अकेले छोड कर श्री राम जी की तलास में चले गये और रावन अपनी सीता स्वैम्बर और सरूपनखा वाली घटना को मद्यनजर रख, सीता जी का अपहर्ण करने की घटना को अंजाम दिया। " देखिये यहां पर देवी सीता जी का क्या दोष था यहां सीता देवी जी के साथ बहुत धोका हुआ। और यहां पर रावण को सबने समझाया लकिन रावण में अपनी शक्ति प्रदर्शन को ले कर और विद्धवान होने के अहम भाव को लेकर, अपनी हबस का शिकार बनाने के लिये क्रोधित हो, जिद्धीपन होते कीसी की बात नहीं मानी जिससे यह भयंकर प्रणाम भुगतना पडा सीता जी का कोई आज भी दोष बताने की कृपा करें । अब जहां तक श्री राम जी बात हैं वह त्रेता युग में मर्यादा प्रसोत्तम राम के अवतार थे। अब ये अवतार विंग क्या होता है यह या तो भगवान जानते हैं क्योंकि भगवान अंतर्यामी होते हैं या फिर जिस शरीर में भगवान की परा शक्ति अवतरित होती है जैसे कि हमारे राम वह जानते हैं ," बन्दर क्या जाने अद्धर्क का स्वादग " अर्थात आम आदमी की सूझ से बाहर का विषय है। जब से पैदा हुए अवतार धारण किया बचपन से लेकर अंत तक मर्यादा निभाते रहे, कभी ऊपर आंख उठा कर भी नहीं देखा। जीते हैं लेकिन जीवन क्या है इन महान आत्माओं को कुछ पता नहीं होता।आप श्री राम जी की हर मर्यादा को गहराई से लें, जैसा कि बचपन मे योग विद्धा सीखने गुरू की आज्ञा का पालन करने राज महल का सुख त्याग लक्षमन सहित वनों मे गये सारी जवानी मां बाप की आज्ञा का पालन कर घर का त्याग कर मर्यादा का पालन किया ,फि्र भाई पत्नी सहित नव नवहेली दुल्हन के साथ मां बाप केकै के कहने पर घर का त्याग सभी सुखों का त्याग कर वनों में राजा जनक की राजदुलारी का त्याग यह सब मर्यादा निभाने के लिये ही किया। श्री राम चन्द्र जी ने राक्षषों का वद्ध किया सति अनूसूइया को संजीवत किया आदि ये सब समस्त मानव जाति की भलाई के लिये ही किया।
         अब बात है सीता जी की अग्नि परिक्षा और सीता जी के परित्याग की । श्री राम चन्द्र जी एक राजा थे उनके राजकाल में अमीर गरीब छोटे बडे का कोई भेद भाव न था अपनी प्रजा को सर्वोच्य मानते हर प्राणी को आदर भाव से देखते थे, तभी एक प्रजापत के कहने पर अपनी प्रिय: अर्धंगनी सीता माता का अग्नि परिक्षा लेने के बावजूद भी त्याग कर दिया। एक बात ध्यान रहे यह उनका पति पत्नि का आपस का मामला भी है कोई दोष का कारण नही बनता श्री राम जी निर्दोष हैं अध्यात्मिकता से लें तो आत्मा को दुखाना गलत है भगवान अवश्य पश्चाताप करेंगे और शायद कर भी लिया हो।
विशेष :- 
हम मानते हैं जब सीता जी की अग्नि परिक्षा हो गई तो श्री राम चन्द्र जी को एक मामूली आदमी के कहने पर सीता जी का परित्याग नहीं करना चाहिये था।फिर भी श्री राम जी ने समाजिक मर्यादा को ध्यान में रख कर जानकी जी का परित्याग किया। राम जी एक महान आत्मा हैं चाहते वह उसी समय पश्चाताप कर लेते लेकिन वह अन्तर्यामी हैं उन्होने ऐसा नहीं किया ताकि वह फिर से हमारे बीच में आकर सृस्टि के स्वामित्व का भार अवश्य सम्भालेंगे।

* होन हार भावी प्रभल, कहत भिलख मुनी नाथ,
  जीवन मर्ण लाभ हानी यश अपयश विधी हाथ। *

           अर्थात होता वही जो भगवान ने रच रखा है। दूसरी और ऐसा न होता तो भगवान दुबारा अवतार कैसे लेते। श्री राम जी ने दवापर युग में भी अवतार लिया श्री कृष्ण के रूप में और श्री राम चन्द्र जी ने कलयुग में भी अवतार धारण करना है या कर लिया है और अपने इस अवतारी काल में श्री राम जी सीता जी को जो त्रेतायुग में अग्नि परिक्षा ली थी का पश्चाताप कर सीता जी से अपनी गलती की माफी मांगेंगें । लेकिन यह सब मर्यादा के रहते ही हुआ है और हो रहा है।।
             दूसरी ओर श्री राम जी की कोई गलती नहीं। लक्षमन जी ने सुरक्षा रेखा सीता जी की रक्षा के लिये खींची , सीता जी ने रावण की बातों में आकर लक्षमन रेखा का उलंगन किया और रेखा पार की जिसकी वजय से रावन ने सीता जी का अपहर्ण किया और श्री राम जी , लक्षमन सहित समस्त परिवार ने सीता जी के लिये और अपनी मर्यादा को निभाने के लिये क्या क्या का न सहा । समस्त जीवन सीता जी की याद और रक्षा मे ही बिताया। दूसरी और जहां तक रावण की बात है, शुरू में रावण एक विदू्आन महपुरुष थे, राजदरबारों में अच्छी ख्याती प्राप्त थी, देवी देवताओं से अनन्य भग्ति कर अच्छी शक्तियां आशिर्वाद के रूप में प्राप्त थीे  लेकिन बाद में अहमभाव के कारण एक के बाद एक गलतियां की जैसा कि श्री शिव भगवान से दक्षिणा के रूप में लंका को मांगना आदि। बाद में रावण एक चरित्रहीन, दुराचारी, पापी, अधर्मी, कपटी राजा कहलाया। वह पराई स्त्रियों के साथ गमन करता और गलत नजर से देखता,और अपने समय में साधू संतों ऋषियों मुनियो के खून तक का प्यासा था, और देवी सीता माता जी तक का उसने अपहर्ण किया, जिससे युद्ध का कारण बना और श्री राम जी ने अपनी प्रतिज्ञा-नुसार जीते जी आराम नहीं किया, जब तक रावण रूपी राक्षष का वद्ध नहीं हुआ।

     *  Lord Shree Ram Ji is Virtuless (Gunateet) a Holy-Supreme-Soul, while Ravana is Virtuous. *

            वास्तव में यह एक दिव्य एतिहासिक अध्यात्मिक घटना है जो हमारे ऋषियों मुनियों ने समाज में मर्यादा में रह कर कैसे जीवन व्यतीत करना है यहां दर्शाया, और समाज में रहते हुए दु:ख सुख को सहन करते हुए, मर्यादा में रहते हुए, सात्विकता को अपना कर सद्गुणों का सहारा ले, अनन्य भग्ति कर श्री भग्वान जो हमें नित्य प्राप्त हैं हमारे हृदया में वास करते हैं का अनुभव कर परम आनन्द की प्राप्ती कर, परम शान्ति को पाते हुए, परम धाम का सुख भोगना है जो हमारे जीवन का परम लक्ष है।

   * इस लिये अपने जीवन में हमें श्री राम चरित्र को अपनाना चाहिये रावण का नहीं *

            वर्तमान युग कलयुग में भी लार्ड श्री कृष्णा द्वारा दवापर युग में दिये गये अपने कथनानुसार जैसा के अध्याय 4,-सलोका, 7-8, में दिया गया है, जब पाप बडता है, धर्म की हानी होती है, अधर्म की वृद्धि होती है, तब तब में अपने रूप को रचता हूं और साकार रूप में प्रकट होता हूं, ऐसे समय में मैं साधू पुरुषों का उद्धार  कर, पापियों का विनास करता हूं। धर्म को पुनं: अच्छी तरह स्थापना करने के लिये प्रकट होता हूं। को पूरा करने के लिये सन् 1996 में अपने अति सुन्दर, मोहनी,  दिव्य साकार रूप, " मानूषं-रूपं " रूप में साक्षात प्रकट हो चुके हैं। इस प्रकार अवगुणो के विरोध में और सद्गुणो को पाने के लिये अध्यात्मिक जीवन का यह संधर्ष तो जब तक सृष्टि है यूं ही चलता रहेगा फिर भी हमें सद्धगुणो को अपना कर, मर्यादा में रहते हुए,परम भग्ति कर, जीवन व्यतीत करने का प्रयास करना चाहिये। जिससे जीवन में  शान्ती प्राप्त हो सकेगी और विष्व में शान्ती प्रदान हो सकेगी, जो हम सब प्राणियो का एकमात्र उद्धेश्य भी है।

Comment:--अयोध्या में 5-8-20 को भूमी पूजन के दिन सायं देशी घी के पांच दीये ही क्यो जलाऐ जायें ?
Ans:-- By Rohtas

जय श्री राम
हम श्रीमान जी अध्यात्मिक्त्तानुसार पांच आदि-प्रमेश्वर के पांच दिये जलाऐंगे, बाकी कोई कितने जलाएं सब स्वतन्त्र हैं

   ॐ🙏🙏🙏🙏🙏ॐ

      जय श्री राम जी
                       ॐ शान्ती ॐ
                                   दास अनुदास रोहतास

Saturday, August 19, 2017

Answer to Swami Achintananad Ji Maharaj by Rohtas

        क्या विचारशून्य अवस्था सम्भव है का शेष भाग
                           **************
मेरे मालिक आप की जय हो !

Answer to Swami Achintyananad Ji :---  ******

                   आप जो जानना चाहें जानें जो पूछना चाहें पूछें प्रशन्न में विचारशून्य होने की बात है जीवन मुक्त होने की बात नहीं फिर भी हम प्रभू कृपा से अपने विचार रख रहे हैं इसका मतलब है प्राकतिक गूणो से मुक्त होना विचार मुक्त होना है, प्रकृति के पांच तत्व के गुण व अवगुण दोनों से मुक्त होना पडेगा, जब ही शून्य अवस्था आती है काम, क्रोध, लोभ, मोह, अंहकार, अहंभाव, मन, बुद्धी और ज्ञान, इन सब गुणों से जीव जब विकार मुक्त होगा तभी गुणातीत होगा और जब गुणातीत होगा वही अवस्था विचारशून्य मानी जायगी, लेकिन यहां पर जीव की चेतन अवस्था है अत: जीव का इस अवस्था में चेतनता होनी अति आवश्यक है उह अवस्था ज्यादा देर नही रह सकती इसके साथ साथ साथ चेतन्ता के रहते हुए आप मेहनत करते हुए आगे ," काष्ट- सिद्धी " को प्रभू कृपा होने पर प्राप्त कर सकते हैं ।अगर इससे आगे आप और मेहनत करते हैं तो continuously बैठक लगाने पर प्रभू कृपा होने पर, " अमृत-रस-पान " का आनन्द ले सकते हो। और इसके बाद यहां पर परमपिता प्रमात्मा आपको दिव्यता प्रदान करते हुए विवेक शक्ति की प्रदान कर सकते हैं और विवेकी परुष कहलाने गौर्व प्राप्त हो जाता है । अब दिव्यता का प्रतीक होने पर दिव्य अनुभूतियों का आनन्द ले सकते हैं और अब यहां जीव दिव्य कृपा पात्रता का अधिकार प्राप्त कर लेते हैं और दिव्य पुरुष कहलाने का गौरव प्राप्त कर लेते हैं यहां पर जिवात्मा गुणातित होने पर शून्य अवस्था होने पर मुक्ति पद् की प्रापति भी हो रही है इसलिये यहां जीव ज्याद समय मुक्त नहीं रह सकता अनर्थ हो सकता है, यहां शरीर का भी ध्यान रखना पडता है लेकिन भगवान बडे दयालू होते हैं अपने परम भग्त का एक बाल भी बांगा नही होने देते अपनी परम कृपा बनाये रखते हैं  यहां पर जीव के मुक्त होते ही भगवान उसको दोबारा से जीवन प्रदान करते हैं या कभी कभी भगवान अपने दिवय प्रारूप शरीर से अवतरित हो जाते हैं और इस प्रकार अब वह गुणातीत शरीर अवतरित आत्मा के रहते अवतारी पुरुष कहलाने का गौरव भी प्रापत कर लेता है अर्थात शून्य अवस्था होने पर दिवय गुण अवतरित होने पर दिवय पुरुष, दिव्य आत्मा अवतरित होने पर अवतारी पुरुष और मालिक से योग भी हो सकता है कुछ क्षण के लिये ऐसे में योगी पुरुष कहलाने हकदार हो जाता है। " बहुत कठिन है डगर पनघट की "! फिर भी लग्नेषू व अनन्य भग्ति द्वारा परम सनेही भग्तजन के लिये बहुत आसान है।

     "यह सब हम व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर ही लिख रहे हैं"

                                दास अनुदास रोहतास
                                        ********

Answer to Rohtas by Swami Achintananad  Maharaj Ji :-----Face-book *****
                 रोहतास जी (अवतारी पुरूष आप के अनुसार) राम राम आप ने जो अपने अनुभव के आधार पर परमात्मा के बारे मे व्यख्या की है उस से यह लगता है कि आप ने परमपिता परमात्मा के सब लोकों को देखा जाना और समझा है ! जितना आप जानते हैं उस जानने की अवस्था तक पहुंचने के लिए अभी तो मैंने प्रवेश ही नहीं लिया है !
जब मैं इस जानने वाली कक्षा मे प्रवेश प्राप्त कर लूंगा तब आप से कुछ पुछने या जानने के लिए प्रश्न करुँगा !
तब तक के लिए ____
     
                            जय श्री राम

               Hearty Parnams Maharaj Ji

Friday, August 18, 2017

क्या विचारशून्य होना् सम्भव है ?

         क्या विचारशून्य होना सम्भव है ?
                 **************
प्रशन्न पूछें****ऊत्तर पाऐं****शंका समाधान***** Facebook
Que:----  Prakhar Kumar Ji. ***********

Answer by Rohtas:--*****In Brief *****

जय श्री राम जी,
                 श्रीमान जी, " हां ", क्षणमात्र के लिये, सम्भव है वो भी, परम स्नेही, लग्नेषू, जिज्ञाषू, योगी पुरुष और भगवान के अनन्य परम भग्त के लिये। यह अवस्था जीव के गुणातीत हो, स्थितप्रज्ञ होने पर ही सम्भव है। Stability is very complsory.
सावधान:----
                शून्य अवस्था में प्रभू कृपा अति आवश्यक है और लम्बे समय के शून्य में अनर्थ भी हो सकता है इस लिये ध्यान से, बहुत सुन्दर अवस्था है यहिं से जीव को दिव्यता का अनुभव और दिव्यानन्द होने की अनूभूतियां होने की कृपा का अवसर भगवान प्रदान करते हैं।
उपाय:---
              योगा, प्राणायाम शारीरिक अक्षर्शाईज और ध्यान का अभ्यास continuously, शून्य अवस्था तक क्रमश: करते रहना बहुत जरूरी हैं स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना चाहिये।
सुझाव:----
             परम स्नेही भग्तजन को शून्य अवस्था के साथ-साथ लगे हाथ काष्ट-सिद्धी योग और अमृत-रसपान कर लेना चाहिये, क्योंकि इन तीनों योग कृयाओं का आपस में घहरा सम्बन्ध है और साथ-साथ ही हो जाती हैं और प्रभू कृपा होने पर जीव को दिव्य आनन्द और दिव्यता प्राप्त हो जाती है।
 समाधान:-----
              जब परम स्नेही भग्तजन अनन्य भग्ति करता हुआ, योग सिद्धी कृयाओं की, इन तीनों अवस्थाओं को अनुभव कर, प्रभू कृपा द्वारा दिव्यता को प्राप्त कर लेता है, तो विवेक की प्राप्ती हो जाती है जिससे धीरे धीरे शभि दिव्य अनुभूतियां को अनुभव कर, तुरिया शक्ति द्वारा बेतर्णी को पार करता हुआ, परम लक्ष की प्राप्ती कर, सभी अध्यात्मिक जगत की शंकाओं का समधान करता हुआ, प्रभू जी से योग होने पर, परम शान्ती को पा परम धामको प्राप्त कर आनन्दित होता हुआ, अंत में मोक्ष को प्राप्त कर लेता है जो जीवन का मुख्य उद्देश्य है।

       * Yet its the Matter of Self Realization *

                  * प्रभू हम सब पर कृपा बनाय रखे। *

                                                  दास अनुदास रोहतास

Thursday, August 17, 2017

Source Of All Religions

Simon Rowe's Question :--
--------------------------------
            What is the Source of all Religions ?

Answer by Rohtas :-
--------------------

            EGO due to unsimilarity in Thoughts, because Ego is the root of all religion.
                                         
                                       Das Anudas Rohtas

अध्यात्मिक जगत में कौनसा मार्ग ज्यादा उपयुक्त है भग्ति मारग या ज्ञान मार्ग

शिक्षा चौहान- अध्यात्मिक सागर प्रशन्नोत्तरी शंशंका समाधान
ऊत्तर by रोहतास -
जय श्री कृष्णा,
                श्रीमसन जी यहां पर कुछ मार्मिक शब्द उपयुक्त होने चहिये जैसे अध्यात्मिकता के आधार पर कौनशा योग मार्ग, भग्तियोग मार्ग या ज्ञानयोग मार्ग में से कौनसा  योग मार्ग उपयुक्त है जिसको हम अपने जीवन में अपनाए जो सर्वस्रेष्ट मार्ग हो जिससे प्रभू के दिवय रूप के दर्शन हो सकें, या प्रभू का साक्षात्कार हो जाय। " हमने पहले भी लिखा है प्रशन्न सही होगा तो उसका ऊत्तर सही मिलेगा।" दूसरी ओर अगर हम भगवान तक जाने की बात करें तो * भगवान तो नित्य प्राप्त हैं * कहीं जाने का स्वाल ही पैदा नहीं होता हां Its a Matter of Self Realization . यह तो व्यक्तिगत अनुभव का विषय है अर्थात अध्यात्मिकता के आधार से लें, तो भग्ति मार्ग ही सर्वश्रेष्ट मार्ग हैं भगवान केवल भग्ति से ही प्रशन्न हो कर प्रकट हो अपने भग्त को आनन्दविभोर होने का अवसर प्रदान कर सकते हैं
       वह इस लिये कि कर्म योग, ज्ञान योग, सांख्य योग, लययोग, हठयोग, नाम योग, भग्तियोग कोई भी योग हो अर्थात भग्ति में कोई भी मार्ग हो ध्यान योग के बिना सब अधूरे हैं दिव्य अनुभव केवल ध्यान योग से ही अनुभव होना सम्भव है और ध्यान योग भग्तियोग का ही महत्वपूर्ण अंश है इसलिये भग्तियोग सर्वश्रेष्ट योग है सर्वश्रेष्ट मार्ग है। भगवान के परम भग्त, लग्नेषू, जिज्ञाषू, परम स्नेही भग्त जन प्राय:, जबसे सृस्टि बनी आजतक, भग्तिमार्ग ही अपनाते आये है और अपने अध्यात्मिक जीवन मे अन्तर्मुखी होते हुए दिव्य अनुभव प्राप्त कर, भग्ति का आनन्द ले, शान्ति प्रिय: जीवन व्यतित करते आय हैं जिससे विष्व में शान्तिप्रिय: वातावर्ण का सक्षम होना सम्भव है और जो हमारे जीवन का परम लक्ष भी है।
          जहां तक साक्षातकार की बात है यह भी हर युग में भगवान अपने परम भग्त की भग्ति पूर्ण होने पर साकार रूप में अपने भग्त के समक्ष उसे प्रोत्साहित करने हेतू कुछ क्षण के लिये प्रकट होते आय हैं अब भी वर्तमान युग कलयुग में भगवान साकार रूप में साक्षात रूप में प्रकट हो चुके हैं लेकिन यह सब अनन्य भग्ति करने पर ही सम्भव हुआ है इसलिये अध्यात्मिकता के आधार पर भग्तिमार्ग ही सर्वस्रेष्ट मार्ग है। 
    धन्यवाद सहित                          
                                 दास अनुदास रोहतास

मोक्ष क्या है

      Krishna Krishna - अध्यात्मिक सागर प्रशन्नोत्री शंका-समधान
  

       
प्रशन्न :---मोक्ष का तात्पर्य क्या है और क्या मोक्ष मरने के बाद ही प्राप्त हो सकता है ?
ऊत्तर by रोहतास
संक्षिप्त में,
आदर्णिय श्रीमान जी,
                    मोक्ष जीव को जीते जी अर्थात जीवनकाल में ही अनन्य भग्ति द्वारा प्रभू कृपा होने पर ही ( केवल मोक्ष प्राप्ती का अधिकार ) भगवान जीव को प्रदान कर उस जीव को किसी सवर्ग आदि सुन्दर दिव्यलोक में सुरक्षित स्थान प्रदान कर देते हैं और इस प्रकार मोक्ष प्राप्त सभी जीव आत्माऐं महाप्रलया के समय अपने मोक्ष प्राप्त अधिकार का सद्उपयोग करते हुए, परम आत्मा में संलिप्त होने पर मोक्ष को प्राप्त हो जाती हैं जब से सृष्टि बनी आजतक देवी, देवता, और तो क्या ब्रह्मा, विष्णु, महेष, आदि महानत्तम आत्माओं तक किसी को भी मोक्ष नहीं मिला हां सभी को मोक्ष अधिकार प्राप्त हैं और सभी महान आत्माऐं या तो उन्हें इस सुन्दर सृस्टि में किसी न किसी लोक का स्वामित्व सोंप दिया जाता है या फिर सवर्ग आदि, दिव्य सुन्दर लोकों में सुरक्षित परम आनन्दित हैं। जिन्हें केवल भगवान के परम भग्त, लग्नेषू , जिज्ञाषू, योगीपुरुष, या अवतारी पुरुष दिव्य चक्षूओं की सहायता से प्रभू कृपा होने पर ही, अन्र्तर्मुखी होते हुए अनुभव कर सकते हैं।
ध्यान रहे :-
                 1. मृत्यु   स्थूल   शरीर  की होती है
                 2. मुक्ति  सूक्षम  शरीर  की होती है
                 3. मोक्ष कारण शरीर को मिलता है

     अध्यात्मिक सच्चाई
                                                    दास अनुदास रोहतास

क्या पता कौन स्वर्ग जाएगा कौन नर्क

प्रशन्न Sivendra Gupta :-
            क्या पता कौन स्वर्ग जाएगा कौन नर्क और इनकी वास्तविक सत्ता है भी या नहीं ?

उत्तर by रोहतास :---
                     * We Must Go To Heaven * 

श्रीमान जी नमस्ते,

            भग्वन्ता व महात्मना स्वर्ग में मर कर नहीं जाते जिंदा ही जाते है, भग्वन्ता जीते जी भग्ति करते है , भग्वन्ता जीते जी मुक्त होते हैं और जीते जी भगवान का कृपापात्र हो, मोक्षपद् का अधिकार प्राप्त कर लेते हैं और भगवान अपनी कृपा कर इन महात्मनों को स्वर्ग आदि ऊंचे धाम, ऊंचे लोको में स्थानान्तरित कर देते हैं, जो महाप्रलया तक आनन्दित रह सुख भोगते हैं या प्रभू इच्छा अनुसार किसी दिव्य लोक का स्वामित्व भी प्रदान कर देते हैं और अंत में सृष्टि के मध्य प्रभू लीला अवलोकन कर, परम शान्ति को प्राप्त होते हैं।

        जय सच्चिदा्नन्द।
                        Om Shanti Om
                                    दास अनुदास रोहतास

Saturday, August 5, 2017

Swagatam in Spirituality

Welcome in Spitituality


                                                   Das Anudas Rohtas