Monday, April 22, 2019

A struggle between astroid and Black Hole

                Black Hole & Astroid
                      *************
We realized during medtation A dangerable struggle between Astroid and a Black-Hole in internal divine universe as we try to show in this image below in No:-5. First of all, black hole remove 2,3,4, point from the surface then it collided with an astroid  at 8-00 am,
on 21-4-2019.


Realization during meditation it may be cyclones or divine power's ring circulating in I.D.U. IN INNER space very clearly at 10-00 pm on 28-4-19



                               Das Anudas Rohtas


Thursday, April 18, 2019

Om Namo Narayana

Om Namo Narayana

         Jai Shri Krishna  Jai Shri Ram Ji

                * Prakriti & Purush *
                         ***********

                 In the Spiritual World, Divine Self-Elements SOUL has been known by the name of PURUSH (Man) and the marits of the properties of other Natural Elements are known by the name of the PRAKRITI "Nature" ( Subtle-Body ). It is important to have Nature and Man in this beautiful divine creation, which is depicted as Low.


Respected True Devotees of God,

                when the ego and sin rise on this holy Earth and there is a loss of religions, Spirituality' and the sadhu saint Society and society are exploited, in such a time, the wicked, the sinner and the yogi are destined, then to destroy the corrupt souls, and to restore the religion again, only God, With His Yoga Maya (Nature and Supreme Soul) By doing so, by completely subdividing, on this holy religion in the gospel, embracing all of us in the form of embodiment, forming our divine realization and manifesting before our ultimate liberation, as the supreme incarnation of Shri Krishna himself given In His Divine Sweet Song, chapter 4 of Shrimadbhagwadgita is described in Shloka 7- 8, or God is incarnated in every age according to any specific requirement in His divine realization form. God became incarnate and appeared In the form of Dharmwatra Raja Harish Chandra in Satyagay, in Treta Yuge, Shri Dasaratha son Shri Ram Chandra ji and in the medicinal age (Dawapar Yuge) have been depicted in the form of Lord Shri Krishna, and in every age, he created a new history, did not repeat any old leela and still God In the beautiful creation, in his divine form & quot; " Manusham Roopam " & quot; in Mohini Form is very beautiful, have appeared in His Divine form. But not necessarily as before, keep on scaring someone here or performing a war like the Mahabharata etc. In spite of that, he did not need any kind of performance before, but due to the lack of time, war would have to be done. But the incarnations of God are able to be full, they are the tangible and interwoven of Divinity, they are known to know that all their work is transformed, that is, they themselves become self-employed even before the thoughts arise in their mind. This time perhaps God will want to create a new history but still he will not want to perform any performance, all can happen at the same time itself. In the same way, there is an experience of seeing something that is already mentioned in the history. As described in the medicines, according to the description of Shri Ved Vyas ji, the Sun God has been seen to be transformed, by changing the form from one to three and three in one number. Which has still come to experience in the present time, which we have also tried to demonstrate by an image, inside the Surface of the Sun, a new planet called X-10 Nibiru has been created, and in the planets of the solar system Currents are happening, and in the present era of Kaliyuga, God has manifested in his very beautiful, divine reality, in his Divine Narayani Body etc.

                  All these divine personal experiences and experiences show that even in this age some natural phenomena can happen in the future. Keeping in mind the universal uprisings and natural calamities of all scientists and spiritual great divine Souls, and Gentlemen in the world, for the welfare of the humanity and the beautiful creations, created by the Almighty God in this wonderful world on Earth and in this beautiful Shristi. You should remain alert about this beautiful and sacred trust and goodness and security of humanity. All religious, spiritual and other living beings should be absorbed in personal, communal and religious minds, keeping their sense of goodwill, brotherly affection and love, according to their own cultural and religious customs, the Lord should remain absorbed in peace so that peace will prevail in the world and in the living beings Unity and goodwill and the welfare of the world!

Special: -----

                   If there is a divine power in the world or a divine re-enormous soul which is holding nature, which has attained the ultimate method, which is adopting its supreme divine creation, and in all the worlds Even though being partially occupied, all the creatures have been adopted in only one cell (room) of their body, even though owning all the creatures, is silent meaningless, unconditional, and fulfilled So, they are free. And who in this glorious world, none of us, all of the creatures are unable to know. O master, we are as you are, your are, your parts are only, we all are ignorant and unaware of your divine elusive Leela. You are the ocean of mercy, grace is Indhu, you are Kripanidan. We all pray together with you, heartily pray that, O Lord, please come forward among us all and resolve the doubts of the creatures of all the world and your ultimate Bhagats, who are your true devotee, are your ultimate Please bless the enchanting divine leela, you are the ocean of joy, are completely capable, and you are the master of all of us.

  Hearty pernaam's Ji
   
                 Om Namo Narayana
                       Om Shanti Om
                           Om Tat Sat


   
                                Das Anudas Rohtas

Sunday, April 14, 2019

ॐ नमो नारायण

ॐ नमों नारायण,

               जय श्री कृष्णा   जय श्री राम जी

                    *  पुरुष और प्रकृति *
                             *******

                  अध्यातमिक जगत में दिव्य आत्म तत्व "आत्मा" को पुरुष के नाम से जाना गया है और अन्य प्रकृतिक तत्वों के  गुणों के मेल ( सूक्ष्म शरीर ) को प्रकृति के नाम से जाना गया है । इस सुन्दर सृष्टि (स्थूल शरीर) में प्रकृति व पुरुष का संयोग होना विशेष महत्वशील है जो निम्न रूप से दर्शाया गया है।


प्रिय: राम स्नेही भग्तजनों,

                  जब जब इस पवित्र धरा पर अहंभाव व पाप बढता है, धर्म की हानी होती है और साधू संत समाज व अध्यात्मिक समाज का शोषण होता है, ठीक ऐसे समय में दुष्ट, पापी व योगी भ्रष्ट जिवात्माओं का नाश करने हेतू, और धर्म को पुन: अच्छी तरह स्थापित करने के लिये ही भगवान, अपनी ( प्रकृति व पुरुष ) माया को अपनी योग शक्ति द्वारा, पूर्णत: अपने वश में कर, सुसृस्टि में इस पवित्र धरा पर हम सब के बीच में अवतार धारण कर, अपने दिव्य साकार रूप को रचते हैं और अपने परम भग्तों के समक्ष प्रकट होते हैं, जैसा कि परम अवतार श्री कृष्णा ने अपने दिव्य मधुर divine Song, श्रीमद्भगवद्गीता के अध्याय ४, श्लोका ७ -८ मे वर्णित किया हुआ है, या फिर भगवान किसी विशेष आवश्यक्ता अनुसार ही हर युग में अवतरित हो अपने दिव्य साकार रूप में साक्षात् प्रकट होते है। सत्तयुग में धर्मावतार राजा श्री हरिश्चन्द्र के रूप में , त्रेता में श्री दशरथ पुत्र श्री राम चन्द्र जी और दवापर युग में लोर्ड श्री कृष्णा जी के रूप में अवतरित हुए हैं और हरयुग में उन्होंने नया एतिहास रचा, कोई पुरानी लीला नहीं दोहराई और अब भी भगवान इस सुन्दर सृष्टि में अपने दिव्य साकार रूप " मानूषं रूपं " मोहिनी, अति सुन्दर, प्रिय:, दिव्य साकार रूप में साक्षात प्रकट हो चुके हैं। लेकिन जरूरी नहीं पहले की तरह यहां किसी से पंगा लेने या महाभारत की तरह फिर से युद्ध करने आदि का प्रदर्शन करते रहेंगे। वैसे तो पहले भी उन्हें किसी प्रकार के प्रदर्शन की जरूरत नहीं थी, लेकिन वक्त की नजाकत को देखते हुए युद्ध आदि करने पडे होंगे। लेकिन भगवान के अवतार पूर्ण समर्थ होते हैं, वह दिव्यता की मूर्त व अंतर्यामी होते हैं, वह तो जानी जान होते हैं उनके  सब कार्य तो भावान्तरित होते हैं, यानि उनके मन में भाव आने से पहले ही automatically स्वेंय ही कार्याविन्त हो जाया करते हैं । इस बार शायद भगवान एक नया एतिहास रचना चाहेंगे, लेकिन फिर भी वो कोई प्रदर्शन नहीं करना चाहेंगे, सब स्वयं ही at the time घटित हो सकता है। वैसे तो पहले से ही जो सास्त्रों मे उल्लेख है, वैसा वर्तमान में भी कुछ न कुछ देखने को अनुभव में आ रहा है। जैसा कि दवापर में श्री वेद व्यास जी के वर्णन अनुसार, सूर्य देव को एक से तीन और तीन से एक संख्या में रूप बदल कर, परीवर्तित होते देखा गया है। जो अब भी वर्तमान समय में अनुभव में आ चुका है, जिसे हमने एक image द्वारा दर्शाने का प्रयास भी किया हुआ है, सूर्य के Surface के अन्दर एक x-10 Nibiru नामक, नये ग्रह का सृजन् हो चुका है, और सौरमंडल के ग्रहों मे हलचल आदि हो रही है, और वर्तमान युग कलयुग में भगवान अपने बहुत सुन्दर, दिव्य साकार रूप में, अपनी दिव्य नारायणी देह में शाक्षात् प्रकट हो चुके हैं आदि।

                   यह सब दिव्य व्यक्तिगत अनुभव व अनुभूतियां यह दर्शाती हैं कि इस युग में भी इस अद्धभुत संसार में भविष्य में कोई न कोई प्राकृतिक घटना घट सकती है। विश्व के समस्त वैज्ञानिकों को और दिव्य अध्यात्मिक प्राणियों व बुद्धजिवियों को  universal हलचल व प्राकृतिक आपदाओं को ध्यान में रखते हुए for the welfare of  the Humanity & this beautiful creations, created by the almighty God in this wonderful world on Earth and in this beautiful Shristi. अपनी इस सुन्दर व पवित्र धरा पर व मानवता की भलाई व सुरक्षा हेतू अलर्ट रहना चाहिये। सभी धार्मिक, अध्यात्मिक व अन्य प्राणियों को व्यक्तिगत, सम्पर्दायिक व धार्मिक आपसी मन मुटाव मिटाकर आपस में सद्भावना भाईचारा व प्रेम की भावना रखते हुए, अपनी अपनी संस्कृति व धार्मिक मर्यादाओं के अनुसार प्रभू भग्ति में लीन रहना चाहिये जिससे विश्व में शान्ति बनी रहेगी और प्राणियों में एकता व सद्भावना होगी एवं विश्व का कल्याण होगा !
विशेष:-----
                विश्व में अगर कोई दिव्य शक्ति अवतरित है या कोई दिव्य पुन्य परम आत्मा जो प्रकृति को धारण किये हुए है, जिसे परम पद्ध प्राप्त हो चुका है, जो अपनी परम दिव्य सृष्टि अपनाये हुए हैं, और सब सृष्टियों में आंशिक रूप से व्याप्त होते हुए भी सभी सृष्टियों को अपने शरीर की मात्र एक कोशिका ( रूम ) में अपनाए हुऐ है जो सब सृष्टियों का मालिक होते हुए भी, Silent है अर्थात नि:श्पेक्षित, लगावरहित व पूर्णत: स्वतन्त्र हैं। और जिसे इस भव्य संसार में हम सब प्राणियों में से कोई भी, जान-पाने में असमर्थ हैं। हे मालिक, हम जैसे भी हैं, आपके हैं, आपके अंश मात्र हैं, हम सब आपकी दिव्य मायावी लीला से अन्भिज्ञ व अन्जान हैं। आप दया के सागर हैं, कृपा सिन्धू हैं, कृपानिदान हैं। हम सब आप से दोनों कर जोडि, हार्दिक प्रार्थना करते हैं, कि हे प्रभू, कृपया आप हम सबके बीच में आगे आएं और हम सब विष्व के प्राणियों की शंका का समाधान करें और अपने परम भग्तों को जो आपके ,True Devotee हैं को अपनी परम आनन्दमयी दिव्य लीला का रसपान कराने की कृपा करें , आप आनन्द के सागर हैं, पूर्णत: समर्थ हैं, और आप हम सब के स्वामी हैं।

    " सादर प्रणाम जी "
            ॐ नमों नारायण
                   ॐ  शान्ती  ॐ
                        * ॐ तत्त् सत्त् *
      

                         दास अनुदास रोहतास

Wednesday, April 10, 2019

IS THERE A GOD ? * GOD *

Qes:--           Is there a God ?

                             * GOD *


Ans:--      by Rohtas -----      

             We want to remove this suspens. Now believe or do not believe it is the personal right all of us. We are all free minded. God is God, He is very kindful while being a disciplinarian based on His divine latitude.     

          WE SHOULD TRUST IN GOD
                      ***************

* God is the bitter truth & Matter of Self-Realization *

           God's ultimate authority never holds an incarnation. Lord Divine form is the only embodiment. Creation and appearance of God is completely Divinely, automatically and systematically generated, in the Shristi. Now there is no doubt, who appears or happens? God creates his own leela in the universe, first of all he composes the composition of his own divine, "format" The Formated God, which is absolutely perfect, his perfect divine quality, which is a perfect divine, is known in Hinduism as the name of God. This is what Adi God has created in the form of his Trigunya Maya Dhari, composition of Lord Brahma, Vishnu, Mahesh etc. and comprehends the creation of his three qualities and the Mahapralaya., These are Gods till God, and whenever they want it, gracefully becomes present before their ultimate Bhagat.
               We have come to God very closely and calmly.  God gave us special grace to show His Divine Reality in the form of beautiful Lord Narayana, in the form of God, which we have seen in our material worldly sight and after some time God has become infinite. This happens only after the Era-Yugantar when God appears on this sacred trust to encourage any of his ultimate characters in the form of Sarasvati in the form of a joy, and to encourage them.

" Now we will only say that Lord is God. We have firmly believe, you will meet, God."

           On the other side, God is also a divine power, formless form of Divine form, whose philosophy is very rare. After doing this very unique exudence, by observing the personal divine eyes through the divine eyes, only by personal experience can it be observed only by the Yogies, And the bridegroom and the curious who are the ultimate bhaktas of God, they can observe and always earn and do the same. God's special mercy remains upon them.

Types of God:--
  1. God
  2. Formated God
  3. Adhi God
  4. Three Murti God
  5. Lord God
  6. Mumukshu God
  7. Avatar of God
Please be satishfied Now: -

            It is the matter of confidence and self realization. So there is value of self divine realization in meditation, spiritualy and divinely and no one can show to others.

   Spiritual Truth  

                             Das Anudas Rohtas

Monday, April 8, 2019

* भगवान की माया *

                     * भगवान की माया *



            परम स्नेही भग्त जनों अब भगवान और उसकी माया क्या है, जो आज तक एक बहुत गहरा secrets बना हुआ है। मालिक की कृपा से इस विषय पर भी संक्षिप्त में प्रकाश डालने का प्रयास करते हैं।

            भगवान क्या हैं, कैसे हैं, और इसकी माया अर्थात परम और परम की शक्ति क्या है, इसके बारे में जो पीछे पेज लिखे हैं उन्मे काफी जगह उल्लेखित किया गया है। मालिक की कृपा से यहां कुछ स्पस्ट शब्दों में लिखकर देखते हैं। ईश्वर परम तत्व, परम आत्मा, Supreme Soul, Supreme Tatav जो एक Atom अणु के समान है, जो इस सुन्दर सृस्टि में.  ब्रह्माण्ड के समस्त तत्वों का center point of the Power's as a Dot, " Bindh " *Atom* अणु के समान है, जो परम तत्व है, यही ईश्वर है, जो बाह्य चक्रित रिंग के समान है उसमें जो दिव्यत्ता है यह उसकी परम  शक्ति है यही सत्य है। क्योंकि यह इस परम तत्व की परम शक्ति है, इस लिये यह दोनों शक्तियां एक दूसरे से संठी हुई हैं, इनको अलग नहीं किया जा सकता। वास्तव में भगवान जब सृष्टि रचते हैं तो जैसा क हमने पहले भी declare किया हुआ है वो एक सर्वगुण सम्पन्न ईश्वर Formated God की रचना स्वयं करते हैं सभी दिव्य स्वात्मिव भी इन्हें सोंपते हैं इस प्रकार यह निम्नचित्रित भगवान की ही माया है। २-५-१९ के ध्यानमय अनुभव अनुसार यह दोनों शक्तियां ही दिव्य हैं मायावि है और कृष्णा ही राधा और राधा ही कृष्ण हैं वह अपनी योग माया से राधा, और राधा से कृष्णा के रूप में परिवर्तित होने की दिव्य शक्तिमय अनुभव रखते हैं जो ईश्वर की कृपा होने पर ध्यान अवस्था में हमारे अनुभव में आया है यह जो सूक्षम बिन्द है यह ईश्वर है और  रिंग यह आदि भगवान का सूक्षम शरीर है गुणमय दिव्य शक्ति है माया है, इसी मे परिवर्तनशील क्षमता है जिन्हेः नीचे चित्र द्वारा दर्शाया गया है बस यह परिवर्तनशीलता ही भगवान की माया है इस प्रकार वह अपनी माया से कुछ भी अद्धभुत अजीबोगरीब मनमोहक लीला दर्शाने की योग्यता रखते है ।
                 "माया महा ठगनी हम जानी "

             अत: एक सच्चे परम भग्त को भगवान की माया के चक्कर में न पडकर मालिक की सरल सीधी अनन्य भग्ति करनी चाहिये। और मालिक को समर्पित होते हुए उसकी भली भांती खोजकर उसकी शरम में जा सच्चिदानन्द को प्राप्त कर परम धामको प्राप्त होना चाहिये जो हमारा मानव धर्म है और जीवन का परम लक्ष है।
                             

             यह दोनो दिव्य शक्तियां जो शुक्षं-बिन्द+रिंग  के समान हैं, सृस्टि में एक साथ प्रकट होती हैं, और जब परम तत्व प्रकट होता हैं यह दिव्य परम शक्ति भी automatically प्रकट हो जाती हैं। और जैसे सूर्य के अद्रिष होने पर सूर्य का प्रकाश गायब हो जाता है ठीक परम तत्व  के लुप्त होने पर इसकी यह परम शक्ति भी जो रिंग के समान है जिनके मध्य परम चेतन तत्व विध्यमान है automatically लुप्त हो जाती है। इनका यानी परम तत्व और परम शक्ति का घनिष्ठ सम्बन्ध है। दीखने में दो दिखाई देते हैं पर यह दो होकर भी एक हैं। वास्तव में यह भगवान का सूक्षम शरीर भी हो सकता है Hinduism के अनुसार हमारे ऋषियों मुनियों नें इन दोनों दिव्य परम शक्तियों को योगमाया के नाम से जाना है, क्योंकि इनका एक दूसरे से गहरा योग है। Secrecy बनाये रखने के लिये हमारे ऋषियों मुनियों के अनुसार इन्ही दोनों शक्तियों को अध्यात्मिक दृष्टि से श्री राधा-कृष्ण के नाम से जाना जाता है।


              महापुरुष, दिव्य पुरष, योगीजन, परमस्नेही लग्नेषू, जिज्ञाषू, जो भगवान के परम भग्त होते हैं, प्रभू जी की कृपा अनुसार गहरे ध्यानयोग द्वारा अन्तर्मुखी होते हुए, अपने अंत:कर्ण में, internal divine universe में दोनों दिव्य शक्तियों को, परम तत्व को और परम शक्ति रिंग को, चक्रित होते हुए भलि भान्ति अवलोकन करते हुए परम आनन्द का रसपान करते रहते हैं।


विशेष:--
              १. सूर्य दिखता है, किरणे दिखती हैं पर इनके बीच जो प्रकाश है दिखाई नहीं देता। २ चुम्बक में  लोहा दिखता है पर चुम्बकिय शक्ति दिखाई नहीं पडती। ३ ठीक इसी प्रकार हमने तत्व और रिंग दर्शाये जो दिखाई देते हैं, पर इन दोनों के बीच में जो खाली surface है, उस में परम चेतन तत्व जो Immortal है, अति पवित्र है, अमर है, अजर है, इन दोनों शक्तियों के अन्दर बाहर बीच में विद्धमान है, जो हर जगह मौजूद है, जो कण कण में मोजूद है बस यही Supremo है, Param Tatav है, यह Divinity ही * सत्य है  * ईश्वर है, जिसका  हमने उपरोक्त जिकर किया है, जो आदि, अंत और मध्य, तीनों अवस्थाओं में live forever ,विद्धमान रहता है, जो क्षण भंगूर है। It is the Divinity of Supreme Tatav, which is Immortal. While All beginningless and Endless flow of the beautiful creations, Nature and all elements in this wonderful Divine Shristi are live unstable and mortal till mahaparlaya.
 
कृपया ध्यान दे:--

                उपरोक्त एक एक शब्द सोच समझकर और व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर और पूरे विश्व की मानवता की भलाई के लिये लिखा गया है

" It is a Secret, Secular and Spiritual Divine Knowledge. "

                       दास अनुदास रोहतास