Wednesday, March 13, 2024

🌿 Lord Vishnu's Avatar Rohtas 🌿

      🌼 Lord Vishnu's Avatar Rohtas 🏵



 Question:--     What is the Joy of God presence ?
 प्रशन्न:--   भगवान की उपस्थिति के अनुभव का आनन्द  कैसा है ?

                     रचा है सृष्टि को जिस प्रभू ने,

                     वही  यह  सृष्टि  चला  रहे  हैं

  उत्तर:----     अनुभव की पाठशाला में जो पाठ सीखे जाते हैं वह पुस्तकों और विष्वविद्धालयों में नहीं मिलते। यहां अनुभव के आधार पर दिव्य रूहानी discussion हो रहा है 

 वैसे तो यह व्यक्तिगत अनुभव का विषय है फिर भी चलो प्रकाश डाल......

              पीछे हमने भगवान को समझने को लेकर और कुछ व्यक्तिगत दिव्य अनुभवों को लेकर उन पर प्रकाश डालने का प्रयास किया है। कुछ भगवान के दिव्य रूपों को दर्शाने का भी प्रयास किया गया है।

             आज का हमारा ध्येय विष्य भी कुछ ऐसा ही दिव्य अनुभवों से सम्बन्दित है कि भगवान कैसे है, कैसे प्रकट होते हैं.... भगवान हैं क्या ?

              In our divine realization first of all Atom become churned and then it becomes stable at its own divine celestial latitude 

              अर्थात हमारी दिव्य अनुभूति में सबसे पहले परमाणु दिव्य मंथन हुआ है फिर अणु प्रकट होते हुए अनुभव हुआ, जो अपने दिव्य आकाशीय अक्षांश पर क्षण भर के लिये स्थिर हो जाता है 

               पीछे हमने ruhani discussion में भगवान के दिव्य रूपों को दर्शाने का प्रयास किया जो ध्यान की अवस्था में हमे अनभुव हुए। जिसका वर्णन ब्रह्मसंहिता 5-33 में आया है।

             "अद्व-वैत्त्तम उच्चतम अनादिम् अनंत रूपं ब्रह्मसंहिता-5-33 " 

 यहां भगवान के समस्त दिव्य रूपों का वर्णन है जो क्रमष: एक सूत्र में पिरोये हुए सभी सुशोभित हो रहे हैं, जिनमें से कुछ को हमने यहां दर्शाने का प्रयास किया है।

               आज का हमारा ध्येय विषय है हमारे परम ईष्टदेव, भगवान कहां हैं, कैसे हैं, इसी दिव्य विषय पर discussion होगा। First of all Grace of god is very compulsory

                     ------------------------

                       * आज का ध्यान *

             आज का धयान 3-15 am, on 12-4-24.      ध्यान बहुत सुन्दर है। दिव्य है। और हो भी क्यों नहीं ! जिनका ध्यान है वह भी तो अति सुन्दर हैं। ध्यान में समस्त ब्रह्मांड, समस्त space, समस्त सृष्टियां, समस्त चेतन-तत्व, प्रकाश रूपी समस्त तत्व, जो हमें as a Flames के रूप में दिखाई दे रहा है *उधारण के तौर पर* जैसा कि 15 दिन की continues बारिस के बाद बादलों की घनघोर घटा के छटने के बाद शाम के साफ मौसम में सफेद हल्की फुलकी, चेत्तन तत्व से बनी, दिव्य प्रकाश रूपी, रूई जैसी दिखने वाली, सफेद बदरिया के समान, आसमान में बादलों के नीचे जो हलके सफेद रंग में तेजी से दौडती नजर आती है, जो दिव्य आत्म तत्व के " प्रा-रूप " के समान हैं, Atom activation के मंथन के बाद "अति सूक्षम " दिखाई देने वाला " दिव्य अणु-Atom " ही शेष है " appeared as a Supreme Divine Atom ही center point of the power है। यही सुपरिम आत्म तत्व है Dot है, Supreme Atom - सूक्ष्म अणु- के समान है, जो क्षणमात्र के लिये stable होने पर अपने दिव्य अक्षांश पर स्थाई रूप से स्थिर हो जाता है...." यही शेष है, यही विशेष है, और यही महेष है। ".... वैसे तो परम तत्व 24 घंटे हर क्षण active रहता हैं! लेकिन stable होने पर कुछ क्षण के लिये प्रकट होने कि कृपा भी कर देते हैं। यही इस सुन्दर सृष्टि के मालिक हैं, और इस अद्धभुत दिव्य सृष्टि का परम आधार हैं और यही परमानन्द हैं, और यह ही सच्चिदानंद हैं।

                           * सारांश *

             ध्यान अवस्था में अनुभव होने पर यह भृकुटि में हमारे दिव्य  Holy space में, जो हमारे बाल की नोक के हजारवें हिस्से से भी बारीक नजर आता है, जो सूक्ष्म से सूक्ष्म अणु के समान होता है, जो एक चमकिली Diamond की कणी के समान, हमारे दिव्य IDU में अनुभव में आता है। "Divinity" दिव्यत्ता इसकी विशेषता है। बस यही हमारे भगवान हैं, यही ईश्वर हैं, यही The God, Supreme God हैं, जो सुपरीम सृष्टि में, और समस्त सुक्ष्म सृष्टियों में रहते हुए, इन सभी सृष्टियों का मूल आधार है, ईश्चर हैं, सबके मालिक है। एक ओंकार है। यही परमानन्द है। यही सच्चिदानंद महा प्रभू हैं।

                                       दास अनुदास रोहतास

                               

                        Supreme Atom


Supreme Atom's Activation



Supreme Atom's Power (GOD's Power)


🌼🌿 Lord Vishnu's Avatar Rohtas 🌿🌼


  🌼 Atom Activation 🌼

                 Atom activation realized by Atom's Avatar Rohtas at 2-30 am, on 12-3-2024,   in I D U

                Here Atom become churned in IDU divinely, then atom is stabled


       Supreme Atom's Avatar Rohtas


   

Tuesday, February 27, 2024

You are welcomed in Spirituality

                           सादर प्रणाम् जी

  We should Surrendere to God ourselves                in the honour of Humanity


Chaitanyamaya Lord Ishwer's Avatar Rohtas meaning:---

Chaitan+Maya+Lord Ishwer+Avatar Rohtas

                          🌼 प्रार्थना 🌼



🌼 Let us Prey To God 🌼

          Respected true devotees of God, please come all together in this holy ruhani discussion and let us pray to god, through a sweet song

🌸 Prayer to God 🌸



      " Das Anudas Chaitanyamaya

                          Lord Ishwer's Avatar Rohtas "         

                                              

Wednesday, January 31, 2024

🌴💐🌾 Digital Avatar Rohtas In Divinity in this Beautiful Shristi 🌾💐🌴

Rohtas Kanwar: Is Digital Avatar in Divinity, in this Beautiful Shristi
                 Shristi:---   0 + .1  

                " Sutra =--  0 - .1 "

      🌿 Means 0 +.1 Consciousness 🌿


Shristi realized in a Nobe of Hair.  


We realized during meditation in Atom activation " cause-micro & macro " divine bodies of God in I.D.U.
--------------

* Stir in Stary Night Sky *


**********"**"

New Baby Water Volcano appeared


* प्रार्थना *


Chaitanyamaya Ishwer's Avatar Rohtas   


Tuesday, January 2, 2024

You are welcomed in Spirituality

           * You are welcomed in Spirituality *


Experienced of full divine light of good morning during meditation in internal divine universe at 2-00 am on 12-1-24
A Grace of God


🙏 Om Namo Narayana 🙏


Shristi Chakra rotating through Divine Power Viveka


Grace of God
Creater & Destroyer Viveka Chakra of the Holy Shristi

 

          Full Grace of God
          --------------
O' .3 Ozone's Layers may by upset


Chaitanyamaya Ishwer's Avatar Rohtas


Sunday, December 31, 2023

🌴💐🌾 All kinds of Shristies are Automatically, Systematically & Divinely beginningless flow of creation of the God 🌾💐🌴

All kinds of Shristies are Automatically, Systematically & Divinely beginningless flow of creation of the God


                When any living being does Devotion of God, then Tatav (Soul) is free from the disorders, i.e. when it is beyond its qualities being "Gunateet" then the living being gets connected directly with Supreme Divine Tatav 'God' this is the Cycle of Shristi's creation.

Realized Divine Forms of God:--- 

1. Silent, Consciousnes, (Chatten-Tatav)             


2.  Perkash Roop.                                


  3.  🌲 Divine Power Viveka 🌲is        
            Base of the Shiristi, Realized at
               3-am on 4-1-24. It known as                        Gravity Power and Ring Power,
"Chaitanya-Tatav"
 
                During Meditation, We have                        experienced the Shristi Chakra,                  rotating through the divine                         power discrimination "VIVEKA"
            in the divine subtle Universe, 
               which is located into the middle of our Bhirkuti a mine 
               " hair's Roame.".                
         
* ॐ तत्त् सत्त् *

* VIVEKA *
                     

4.  Supreme Divine Tatav, Atom, 
  Supreme God, (Ishwer, Perbrhim) & Shristi Chakra Viveka is its power
  Supreme + Chaitanya
!

    5.  Aadhi God Tatav + Gravity Power


6.  Atom activation of Tatav 'God'. 


7.  All Tatavs:--                                    
      Awal   Allaah   Noor  Upaiyo
          Kudrat De Sab Bandhey,   
       Ake Noor Tiyon Sub Jug upjiyo
          Kaun bhalo Kaun Mandho


8.  Adhi-Sathan, God.                        


9.  Perbh-Jiyot.                                     


10.  Three-Murti Lord God & powers

!  Brham Suter Vayu (Air)                    
!!  Peram Suter Atom & (Sudershan)   
  !!!  Shiv Suter water (H²/O=water)           


ॐ Word appeared here

  11.  Suksham Sarira (Virtuous Body)


12.  Lord Mumukshu & Punch-Bhoot


13.  Lord God  " Narayana "              


14.  Lord Krishna                                


15.  Incarnated Supreme Divine     
 Soul of Lord God 
Rohtas


16.  Param Kripa Patra Rohtas                


          Chaitanyamaya Avatar Rohtas            
********


                       (Brhim Sahinta-- 5.33)

  Grace of God is very compulsory.     
         
Silent:----                                                                             

There is only....  Hydrozen, Oxizen & Gravity power, Nuclear (Electron) as a     " Chatten Tatav "
After million of years there appeared some Moment in this silent Universe and then there appeared through Viveka an incident and now there was a great Blast ........& appeared just like a Brilliant-Star into Galaxy & stabled on its attitude in Shristi.
 
    There is two things in creation 
                        * Shristi *
" Supreme Divine Tatav + Nature "

1.  Shristi Just like water &
 water = Hydrozen + Oxizen = (Nature)

2.  Neutrons + protons + Electron's
= Supreme Divine Atom + Divinity,
   ( Supreme divine Tatav " Soul " )

             CIRCLE of SHRISTI
                      ********
 Physical World  & Divine Tatav

Zeero ...to.....Shristi       Creation
Shristi....to....Zeero.       स्थूल सृष्टि

            " Human Body "

Zero......to.......Hero.        Creatures
Hero......to.......Zero.         सूक्ष्म सृष्टि

सृष्टि माला कार है,   सूत्र राम अशोक,
सभी पिरोये शोभते इसमें सुन्दर लोक।

(परम भक्त जनों देखो.....उपरोक्त्त् एक दूसरे के क्रमश: एक सूत्र में पिरोय जाने पर कितने सुन्दर लग रहें है....देखो तो ) ...जय श्री राम
  
                                  * राम राम  राम राम *

                  * जेडा ब्रह्मंडे सो ही पिंडे *....Nanak dev


       Chaitanyamaya Lord Ishwer's Avatar Rohtas 
                       



Saturday, December 30, 2023

🌲 अद् वैत्त्तम अच्यूत्त्तम अनादिम अनंत-रूपं 🌲

 "अद् वैत्त्तम अच्युत्त्तम अनादिम् अनंत-रूपं " ब्रह्मं संहिता --5.33...

       यद्धपि तात्विकता से भगवान के अनेक रूप हैं फिर भी वो एक ही परम व्यक्तित्व हैं, भगवान की नियम बद्ध रचना है जो क्रमश: दिव्यत्ता से एक सूत्र, परम सूत्र में पिरोये होने पर " एक ही परम व्यक्तित्व हैं " ध्यान रहे:-- 🌿 भगवान के कारण शरीर का कृपा पात्र, सूक्ष्म शरीर से मुमुक्षु होता है जो स्वाधिष्टान चक्र में विराजमान होता है और मुमुक्षु का कृपा पात्र  अनन्य परम भग्त का गुणातीतमय सूक्ष्म शरीर होता है । 🌿


दास अनुदास चैतन्यमय आदि ईश्वर अवतार रोहतास

**********



Monday, December 18, 2023

🌼 परम तत्त्व योग 🌼

 " अद्-वैत्तम अच्युत्तमंअनादिम् अनंत-रूपं "..... ब्रहं - संहिता- 5-33


                              * तत्व का परम तत्त्व से योग *

            🌾 " जन्म  कर्म  च  मे  दिव्यमेवं यो वेत्ति तत्त्वत:!

                  त्यवक्त्वा देहं पुनर्जन्म नैति मामेति सोउर्जुना "🌾

                               'श्रीमद्भगवद्गीता अ: 4-श्लो-9'


* नाम योग सर्व श्रेष्ठ योग है *
🌿 ध्यान योग 🌿
अतिउत्तम
|
|

                    दास अनुदास रोहतास