Sunday, December 10, 2017

* The Metamorphosis *

                * Metamorphosis *
                         By Rohtas
                         *********
    The Metamorphosis of A Human
           Suksham Sarira Jiwatama
                      In Spirituality

           

Sir Ji,

          Jai Shri Ram ji,

                     In fact, Spiritually there is great meaning's and Value of Metamorphosis, Per - Kaya Palat or you can say Per-Kaya-Pervaesh in Hinduism. In Pasture Era, Our great Rishi, Muni, Monks have the great importance in their Yogic & Spiritual life. They practiced great Yoga Aasan kriya, Pranayam and highest and deepest meditation in their spiritual life. Among of them Yogic kriya the Metamorphosis is one and Rare. Its easy by Sav-Aasan-Yoga-Kiriya with Karan-Sarira. Spiritually there is great divine secrecy of God in this great divine yogic- kriya" Metamorphosis " and a God gifted Bliss in the life of a yogi purush and true devotee of God.
           
                         If you do not give such a compliment, it is good, but you have heard it. In this, the work of a supreme Brahim yogi is overturned by the entire divine team, with the help of all the divine characters in this work is accomplished with the help of this service. Like this yoga kriya in Bhagti Marg, it is a very difficult and dangerous way for human. In this way, If it is deemed appropriate, then the work may be overturned in a given time, for a particular reason, it would be like this, it is similar to a by-pass surgery, spiritually and divinely, The Metamorphosis of a Suksham Sarira. It may be God knows. We have heard from the pasture Rishi, Muni, Saints, His meditation & realzation to just. Ram things, know Ram. Through This divine yoga kriya Tatav can success to reached His destination in a moment and can take place with the help of his divine cell, Karan-Sarira " Tatav " of any other creature's free divine body Suksham Sarira it may be Miner or Biggest, because, Tatav, Soul-Cell are equal same in sige divinely in every kind of creature's body and can reached any where and realized the position of that spot in the Shristi and disappeared very strangely in the moment during meditation * "Being Conciousness and Stability of Mind only after blessing by God" * . But per-kaya-pervesh yoga Kriya is easy by with kaaran Sarira as holy soul to holy soul and "Tatav to Tatav"  for a True Devotee of God, Yogi Purush and Avatari Purush, after blessing by God only.

Special: ---

                  Mahatman, it is the subject of a reversal, here a divine realization in meditation His life but we must first understand the transcendence. *** It is not the divine yoga action of karan Sarira, Divine TATAV TO TATAV, and  which is also not the divine yogic action of the human physical body, it will be transitory, It will be easy, but the Kaya-Palat Yoga Kriya, Metamorphosis, is the Transcendence of a Jiwatama, it is very Rare Divine yog Kriya, which happens after the Yug-Yugantra.*** NOW YOU WILL GET NEWNESS IN LIFE. It is as a "NEW RE-BIRTH" It can be very difficult and painful to prove a person, yet the grace of the Master remains all right. It is matter of self realization only living in ansethesia, during meditation. 
      Jai Shri Krishna. 

" The State of Bhagti in the highest order is called a complete devotional State to GOD."

       * Now Sin is zero to become Hero *

                                     Das Anudas Rohtas

Tuesday, November 21, 2017

* AMRIT- ANANADHIT - ROHTAS *


           * Amrit- Anandhit - Rohtas *

  
  Que: - By Rutul Menon What is the Nectar Ras- Pan spirit in Spirituality?

In the ultimate ocean prashana-uttra doubt shmadhan @ facebook *****

 Reply by Rohtas: -

 Namaste ji 
                       * Kasth - Siddhi * 

                 Yes Ji yes, it is a poisonous breath and there is Cast-Shidhi in Spitituality. In ancient times, our sages, Muni, saints, yogis, men, great soul, meaning that they used to be able to observe divine experiences, which can still be done.

                 First of all, we should know about the Nectar-Juice-Pan desire * or * pestilence *. The meaning of the word is clear, like the wooded + the divinity unrivaled. Deep meditation Yoga by long  prectice in meditation after perfection, our body becomes like a dead body at one time and the body becomes like a wood, and becomes like a parody. The pockets of the head are closed, in the sense of the yoga of the yoga True Bhagti is called a Divine Conscience, which makes a marriage with the intention of attaining the uniqueness. Here is the name of the prudent man 

                    * Amrit Ras Pan *

                  The Nectar Ras Pan Bhagti, the ultimate bhakti of the bride and the yogi, the yogi experience the elixir juice by exquisite pleasure, which, after the indignation of the body, after the body's unconsciousness, on how the body become casts, on the pores of the bottom under the head (body bones As it is, by squeezing it), from the upper part of the throat, two Drop of the nectar juice, the divine boondes sprout, which are capable of eradicating the Nectar juice of the births of the era of Param Bhagth, Refreshing the body, makes the unique divine joy an attribute, it is possible to attain discretion on the grace of Lord, and it becomes Yoga from Divinity that can be possible only after the Lord's grace after the long exorcism of life By observing this yoga action, many births pass away, just after this, after the grace of God, absolute peace,

* It is very difficult Dagar of Pan-ghat * 

Special :-- Keep in mind, this is the         subject of personal experience, 

                             Das Anudas Rohtas

Monday, November 20, 2017

* AMRITANANDHIT - ROHTAS *

             
            *  Amritsnandhit - Rohtas *
                           अमृत-आनन्दित


 
Que :-  By Rutul Menon अध्यात्तम में काष्ट भग्ति क्या होती है ?

In अध्यात्तम सागर प्रशन्नोत्तरी शंका शमाधान @ facebook

Answer by Rohtas:-

  नमस्ते जी
                          * काष्ट सिद्धी *

                 जी हां जी, काष्ट भग्ति होती है। प्राचीन काल में हमारे ऋषी, मुनी, संत, योगी पुरुष, ऊंची, यानी गहन, अनन्य भग्ति कर दिव्य अनुभव अवलोकन कर लेते थे, जो अब भी हो सकता है।
                 पहले हमें * काष्ट भग्ति * अथवा * काष्ट -सिद्धी * के बारे में जान लेना चाहिये। शब्द का अर्थ स्पष्ट है, काष्ट मैने लकडी + दिव्य अनभवत्ता। गहरे ध्यान योग द्वारा लम्बी ध्यान योग परैक्टिश के बाद हमारा शरीर एक समय मृत अवस्था के समान हो जाता है और शरीर मुर्दे के समान अकड कर लकड के समान हो जाता है  मुख का जबाडा बन्द हो जाता है भग्त के योग की भग्ति में ऐसी अवस्था को काष्ट भग्ति कहते हैं जो दिव्य विवेक अनूभूती प्राप्त करने के उद्धेश्य से एक लग्नेषू करता है। यहां विवेकी पुरुष के नाम से जाना जाता है
                         * अमृत रस पान *

                   काष्ट भग्ति, परम भग्त लग्नेषू एवं जिज्ञाषू, योगी जन अनन्य भग्ति कर अमृत रस पान का अनुभव करते है जो काष्ट सिद्धी के बाद ही शरीर के अकडनपन के बाद, शरीर काष्ट कैसा होने पर मस्तक के नीचे अन्दर तलवा के सिकुडने पर (शरीर की हड्डियों को मानो निचोड कर) गले के ऊपरी भाग से दो चार अमृत रस की, दिव्य बून्दें, टपकती हुई अनुभव होती हैं जो परम भग्त के युग-युगान्तर के जन्मों की प्याष को मिटाने में सक्षम होती हैं और जो पूर्ण शरीर को Refresh कर परम दिव्य आनन्द की अनूभूती करा देती हैं प्रभू कृपा होने पर अमृत रस पान होने पर यहां विवेक की प्राप्ति होना सम्भव हो जाता है और दिव्यता से योग हो जाता है जो जीवन के लम्बे भग्तिमय संगर्ष के बाद प्रभू कृपा होने पर ही सम्भव हो सकता है जीव के इस योग क्रिया को अवलोकन करने तक कई जन्म भी बीत जाते हैं! बस, इसके बाद, प्रभू कृपा होने पर Automatically Divine Qualities, दिव्यत्ता, परम शान्ती, परम आननद की प्राप्ती हो जाती है और अमृतानन्द कहलाने का गौरव प्राप्त कर लेता है जो इस सुन्दर सृष्टि में हमारे को यह सुन्दर अनमोल जीवन के मिलने का एक परम उद्धेष्य भी है मालिक जो हमें नित्य प्राप्त को अनन्य भग्ति कर अनुभव कर लेना।

               * बहुत कठिन है डगर पनघट की *

विशेष-   ध्यान रहे, यह व्यक्तिगत अनुभव का विषय है

                                        दास अनुदास रोहतास

Tuesday, October 31, 2017

WHAT DO YOU MEAN BY AVTARI PURUSH ?

                 * Avtari Purush *

         

 Jai Shree Krishna Ji

Difference Between God, Lord, Human & Avatari Purush.

Avatari purush meaning and differences between five stages in Incarnation of Divine Supreme Power !

1 God :-
                 God then God are all the Divine Automatic Systematic & Divine Immortal creations this formless like a subtle bind those who appear Sveny which sparkled like the diamond. The Amar, Ajar, Immotal and the stable situated on the latitude.

2 Adhi God :-
                  The Formated God is these same Parbrhmin-Prameshwar own rich coordinate himself with his right divine Virtues is these three bodies are one of our finer bodies their physical body Ring. Our Subtle-body they animate body is showing.

3 Lord :-
                   Our body due to them because it is an element of both. Difference is their ultimate reality so our element 3 human macro, Suksm and KARAN. THE SUKSHAM  body are macro is made up of five elements of nature microdissection following work wrath greed fascination ego mind genius and knowledge made that the Bindness properties of five elements,

4 Human Mumukshu :-
                  Embodiment is Bonding eight properties creatures called Jiwatma: - thus after being Virtueless GUNATEET of any creature's body may become four body as Awatari guy because even the fourth body Shree Lord animate in Avatari man's divine elements + The Divine get as Ora, which is a symbol of divinity thus there are four bodies.
5. Avatari Purush:-
                  And Fifth, it is characterized by divine Ring Awatari guy as the fifth divine power VIVEKA on the Lord + Man is, incarnation or Avatari is to get it divinity since not it divine attributes before, and individuals, Avatari guy gets the distinction of being called.

Featuring: ---      

               There is around because the same body that is the ultimate reality is the " KARAN SARIRA ."
                                           Das Anudas Rohtas

अवतारी पुरुष से क्या अभिप्राय है ?

                      * AVTARI PURUSH *

                   

 Jai Shree Krishna Ji

Difference between God, Lord, Human & Avtari Purush .

 अवतारी पुरुष से अभिप्राय है :---
     ---------------------
अवतारी पुरुष से अभिप्राय: और निम्न पांचों अवस्थाओं में अन्तर !

1 God =
               God तो God हैं समस्त दिव्य है Automatic Systematic & Divine Immortal रचना है यह तो निराकार हैं एक सूक्षम बिन्द की तरह हैं जो स्वं प्रकट होते हैं जो diamond की तरह चमकते है। जो अमर हैं अजर हैं और अपने दिव्य अंक्षाश पर स्थित रहते हुए स्थिर हैं।

2 Adhi God =
                   यह प्रारूप भगवान हैं The Formated God हैं इनको पारब्रह्मं प्रमेश्वर खुद अपने जैसा अपना प्रारूप दिव्य गुणाओं से सम्पन्न खुद रचते हैं इनके भी तीन शरीर होते हैं १ हमारा सूक्षम शरीर इनका स्थूल शरीर होता है जो रींग के समान है।  हमारा सूक्षम शरीर है इनका चेतन शरीर है जो दिखाइ नहीं देता। ३ हमारा कारण शरीर इनका कारण वह दोनों का एक जैसा ही तत्व है। फरक इतना है इनका परम तत्व है हमारा आंसिक तत्व है

३ Lord :-
                   यह त्रिगुणी माया का प्रतीक है, सूक्षम, और कारण और चेतन तीनों शरीर दिव्य होते है जो पांच तत्वो के दिव्य  गुणों के बन्दन से बना है, जो निम्न हैं काम क्रोध लोभ मोह अहंकार , मन बुद्धी और ज्ञान अहं भाव, यह जीव को आठ गुणों का बन्दन है जिसे जिवात्मा कहते और जो कारण शरीर आंशिक तत्व है वह सभी जिवात्माओं को नित्य प्राप्त है।

4 Human ( Mumukshu ):- 
                   इस प्रकार जीव के गुणातीत होने पर अवतारी पुरुष के चार शरीर हो जाते हैं क्योकि यहां चौथा शरीर Shree lord का चेतन तत्व के रूप में जो अवतारी पुरुष को दिव्य Ora के रूप में दिव्यता प्राप्त होने पर अनुभव होता है जो दिव्यता का प्रतीक होता है इस प्रकार यहां चार शरीर होते हैं, Mumukshu जो पूर्ण दिव्य है कारण+रिंग-चेतन + सुक्षम शरीर जो प्राकृतिक पांच तत्वों के गुणों के मेल से बना है  शरीर धारण करता है। 
5. Avatar:-
                    पांचवां दिव्य शक्ति Vivek Power के रूप में divine Ring, अधिस्थान, अवतारी पुरुष की विशेषता है यह Lord + Human + Phisical body स्थूल शरीर के मेल से होता है, incarnation, यानी अवतरित होने के बाद ही यह दिव्यता प्राप्त होती है इस से पहले यह दिव्य गुण नहीं होते, और गुणातीत होने पर ही आत्म तत्व का परम आत्मा से योग होने पर, दिव्य गुण अवतरित होने पर, व्यक्ति विशेष होने पर ही, अवतारी पुरुष कहलाने का गौरव प्राप्त हो जाता है।
विशेष:---
  * अत: केवल कारण शरीर जो परम आंसिक आत्म तत्व है जो अति पवित्र है यहां सभी अवस्थाओं में समान रहता है *
संक्षिप्त में:----          
              लेकिन कर्मों अनुसार सभी जीवात्माएं के जन्मों की योनियों में उनके कर्मानुसार परिवर्तन होता रहता है क्योंकि हर जीव के कर्मों का लेखा-जोखा व मोह का बन्धन अपना अपना है जो भोगना पडता है। जिसके अनुसार ही उन्हे अनेक प्रकार की योनियों में जन्म लेना होता है। भगवान का किसी भी जीव के साथ कोई भेदभाव नहीं होता, चींटी से लेकर हाथी तक चाहे जीव किसी भी योनी में है, वह तो निर्लेप हैं। ॐ तत् सत् !
गुह्य पद्ध:----    
            " कर्म गति टरे नहीं टारे कर्मों की गति न्यारी "

                                          दास अनुदास रोहतास

Sunday, October 29, 2017

PARAM HANS ROHTAS

                             Param Hans Rohtas
  

                 When the self-element- soul becomes pure then the master ie the Supreme Spirit, all its divine qualities, all the divine powers partly  for some momentary time, to please their unique ultimate bhakt, to His true devotee to experience their divine LEELA and as the words of the ultimate Swan From the same meaning, "Swan of Param", the Holy soul flies at the speed of the ultimate Swan and takes on the form of the Flow of flame from ges-blower, just like a form of divine Turiya verb, As is happening such values experience so high speed of action of the movement of all the souls of the Holy Spirit. Very great joy is attained and the Dhyan state becomes stable and deep. This Parbrahma - Permeshwer is specially blessed on the ultimate betrayal of the Supreme Father Adam. Such a state of ultimate affectionate Hirda is addressed in the name of Param Hans in Spirituality.

Spiritual truth

                                Das Anudas Rohatas

PARAMHANS ROHTAS

                       * परम हंस रोहतास *
  

    
                    जब आत्म तत्व "आत्मा" पवित्र हो जाती है तो मालिक यानी परम पिता, प्रमात्मा, परम आत्मा अपने सभी दिव्य गुण सभी दिव्य शक्तियां आंशिक रूप से क्षणिक समय के लिये अपने अनन्य परम भग्त को अपनी दिव्य लीला अनुभव कराने हेतू यह कृपा करते हैं और जैसा कि परम हंस शब्दो से ही अभिप्राय है," परम का हंस " अत: आत्मा परम के हंस के रूप में तीव्र गति से उडती है और विष्व आत्माएं एक * Just like a Flame of the Ges-Blower * आत्मिक प्रवाह का रूप धारण कर लेती हैं जो एक तुरिया क्रिया का प्रारूप ही दिखाई पडती है इस प्रकार ऐसा प्रतीत होता है, मानों पारब्रह्मं प्रमेश्वर अर्थात परम आत्मा में से सृष्टि की सभी आत्माओं के प्रवाह के आवागमन की क्रिया प्रतिक्रिया का इतनी तिव्र गति में अनुभव हो रहा हो। बहुत ही परम आनन्द की प्राप्ती होती है और ध्यान अवस्था स्थिर व गहरी होती जाती है। यह परब्रह्मं परम पिता प्रमात्मा की अपने परम भग्त पर विशेष कृपा होती है परम स्नेही भग्तजन की ऐसी अवस्था को अध्यात्म में परम हंस के नाम से सम्बोधित किया गया है।
      अध्यात्मिक सच्चाई
                                               दास अनुदास रोहतास

Friday, October 27, 2017

IS GOD'S FORM NIRAKAR OR SAKAR ? PLEASE CLARIFY

Friday, October 27, 2017
Is God (Sakar) real or (Nirakar) formless ?

Que: ---- By Shree Durgesh Giri: --- Spiritual Sea Quiz Solution at Facebook on 26-10-17 Is God (God) Real or Formless? Please clarify *****

Answer: ----By Rohtas

Shri Man ji Greetings,

                       From the spiritual point of view, according to Hinduism, there are many Divine forms of God, from whom God appears in Nirakar divine form, in the divine state, realized in internal divine Universe and manifested in physical SAKAR Real form, times after the age of the age, in this wonderful physical World, manifested itself to our ultimate affectionate bhagat Let them keep on spinning, and encourage them in the delusion, from which these two forms are special, which are shown in the following form. God, who is experienced in meditation,and by meditation, is also formless and God is also real, if God wishes, then he can also make his most exquisite, loving, beneficial person with the grace of his very beautiful Mohini form.

* 1.  Formless Form *
  

                        Therefore, God should be very special grace, manifesting in both forms can be possible. In the same way, in the present era of Kaliyug, in 1996, in the form of its beautiful, divine form, manifested in the form of "Manusham Roopam", special grace was done after some time by performing special mercy on his supreme bhakt. God is very kind and compassionate, no matter who the person is, when he is full of desire, whatever the caste community is related to the sex community, all creatures in the eyes of God, the creatures are the same, when the fulfillment of Bhogi is fulfilled, their ultimate betrayal, marriage, Divine Purush, Yogi Purush, If anybody is a believer of God, God will surely show it by doing charity and blessed by giving life absolute peace, which gives life to the creatures of ecstasy Every person who becomes Rapti it is only Uddheshya get precious life.

 * 2. Divine Sakar Form of God *
  

                 Om Namo Narayana Ji

                                                 Das Anudas Rohtas

ईश्वर (भगवान) साकार हैं या निराकार ?

Que:---- By Shree Durgesh Giri :---अध्यात्तम सागर प्रश्नोत्तरी शंका समाधान at Facebook on 26-10-17 ईश्वर (भगवान) साकार हैं या निराकार ? कृप्या स्पष्ट करें *****
Answer :----Rohtas

श्री मान जी नमस्कार,

                         श्रीमान जी, अध्यात्मिक दृष्टि से, According to Hinduism वेसे तो भगवान के अनेक दिव्य रूप हैं, जिनसे भगवान दिव्य अवस्था में अन्तर्मुख होते हुए, आन्तरिक दिव्य ब्रह्मांड में प्रकट होने पर अनुभव होते हैं और साकार रूप में भौतिक शरीर से इस अद्धभुत भोतिक संसार में, युग-युगान्तर के बाद कभी- कभार साक्षात प्रकट हो, अपने परम स्नेही भग्त जनों को दर्शन दे, उन्हें रिझाते रहते हैं, और उन्हें भग्तिमार्ग में प्रोत्साहि करते रहते हैं, जिनमें से यह दो रूप विशेष हैं जो निम्न रूप में दर्शाये गये हैं। भगवान का दिव्य रूप जो अन्तर्मुख होते हुए, ध्यान योग द्वारा अनुभव होता है, निराकार हैं और भगवान का साकार रूप भी हैं। साकार रूप को भगवान चाहें तो अपने अनन्य परम स्नेही भग्तजनों को अपने अति सुन्दर मोहिनी साकार रूप का साक्षातकार भी करा सकते हैं।

*  दिव्य निराकार रूप  *



* दिव्य साकार साक्षात रूप *



                             अत: भगवान की अति विशेष कृपा होनी चाहिये। दोनों रूपों में प्रकट होने पर प्रभू दर्शन सम्भव हो सकता हैं। भगवान वर्तमान युग कलयुग में सन् 1996 में अपने अति सुन्दर, मोहनी, दिव्य साकार रूप," मानूषं रूपं " रूप में साक्षात प्रकट हो, अपने परम भग्त पर विशेष कृपा कर, दर्शन दे कृतार्श कर, कुछ समय बाद अन्तर्ध्यान हो गये। भगवान बडे दयालू हैं, कृपालू हैं, भग्ति पूर्ण होने पर, चाहे कोई भी है, चाहे किसी भी जाती, धर्म, लिंग, समुदाय से सम्बन्ध रखने वाला हो, भगवान की नजरों में सब जीव, प्राणी, एक समान हैं। भग्ति पूर्ण होने पर अपने परम भग्त, लग्नेषू, जिज्ञाषू, दिव्य पूरुष, योगी पुरूष, कोई भी भगवान का विश्वाशपात्र होने पर, भगवान अवश्य दर्शन देते हैं और कृतार्थ कर, जीवन धन्य बना, परम शान्ती प्रदान करते हैं जिससे जीव को परमानन्द की प्राप्ति हो जाती है, सो सभी प्राणियों को अनन्य भग्ति कर प्रभू को अनुभव में लाने का प्रयास करना चाहिये वो नित्य प्राप्त हैं जो हर प्राणी का यह अनमोल जीवन पाने का एकमात्र उद्धेष्य है।

                  Om Namo Narayana Ji

                                            दास अनुदास रोहतास

Wednesday, October 25, 2017

WHAT IS GITA

Que :-------What is Gita--------by Devkinondan Soni---------- facebook on 25-10-17

            


Ans:---Rohtas

                   Shree Madh Bhagavad Gita is a Spiritual  Sweet Song singing by Lord Krishna in Dawapar Yuge. Gita is essence of Vedas and Sea of Spiritual Secular Knowledge for Monks, explaining fruitless Karma-Yoga, Sankh-Yoga, Bhagti-Yoga and that all yogas are uncomplete without Meditation ,"Dhiyan-Yoga"  for Supreme Peace and enjoyments and Gita reflects to all humanity the equal rights in God-Realization.

           

                     Universal Truth

                                               Das Anudas Rohtas

What is the concept of Heaven and Hell ?

What is the concept of heaven and Hell ?

Que: ---- What is the hypothesis of heaven and hell ?

               By Aventika Tripathi .........

          
  
 Ans: -----By Shree Rohtas Ji...

Namaste ji,

                   By the  way, the meditation is the subject of the perceptual experience of a person, which can only be realized in the inner divine universe in Bhirkuti. Spiritually divine Holy souls are respected and safe in Heaven. Here in Heaven, these holy souls are owned by Indra Devata according to meditation-Yoga, while in Hell peoples live according to their bed & sinful deeds. Living souls are repleced in long ques laying down on Earth in the form of highly-miner new-born babies body, just like of a sparrow and death will take place in the body for some time in time . The purpose is to send for the movement of these organisms continues flow of this wonderful creation in Shristi .

                                                Das  Anudas Rohtas

स्वर्ग व नर्क की परिकल्पना क्या है ?

Que :------स्वर्ग व नर्क की परिकल्पना क्या है ?
By Aventika Tripathi...

Ans:----- Rohtas...

नमस्ते जी,
               वैसे तो यह ध्यानयोग द्वारा व्यकतिगत परिकाल्पनिक अनुभव का विषय है which can realized only in inner divine universe during meditation फिर भी स्वर्ग में विशेष रूप से कुछ मुख्य पुन्य दिव्य जिवात्माएं, सुक्षम शरीर से परमानन्दित व सुरक्षित रहती हैं। यहां का स्वामित्व इन्द्र देवता के पास है। योगमायाकृपानुसार , जबकि नर्क लोक में अपनें कर्मों अनुसार पुन्ह: जन्म पाने के लिये जिवात्माएं अति miner new born baby just like of a Sparrow, प्यूपा, अति सूक्षम न्यू बोर्न चिडिया के बच्चे के रूप में लम्बी कतारों में पडी हुई बिलखतीं रहती हैं और समय आने पर मृत्यु लोक में कुछ समय के लिये शरीर धारण करने हेतू भेज दिया जाता है और इन जीवों के आवागमन की क्रिया का प्रवाह यूं ही इस सृ्स्टि में, संसार में, " जिसे मृत्यू लोक के नाम से भी जाना जाता हैं " चलता आ रहा है।

                                                दास अनुदास रोहतास

Saturday, October 21, 2017

WHAT IS MORAL OF GEETA ?

WHAT IS MORAL OF GEETA ?

Que: ---- Rajesh Singh on Facebook at 3-40 am, on  19-10-2017.

Ans: - Rohtas:---

Jai Shri Krishna

                 All creatures in Shristi should doing fruitless karms at all and doing continuously meditation yoga, being Virtueless, doing exclusively devotion  multiplying for  Parimal Pershan, Lord Narayana," The God ",  & diligently seek and refuge in Him and meditate on Him, from whom has emanated this beginingless flow of creation. where the men, "soul" do not return to the world again, and get salvation, get the ultimate joy, the ultimate Peace is achieved. That is also the ultimate purpose of getting our life.
Special: -
                   Lord Shri Krishna also explained in  Shree Madhbhgwadh Geeta's, adhyen- 15 / Slokas- 3:

" I also seek and refuge  the same Adhi God -Lord Narayan."
  


                                       Das Anudas Rohtas

Thursday, October 19, 2017

WHAT IS MORAL OF GEETA ?

Que:----Rajesh Singh on  Facebook at 3-40 am, on 
19-10-2017 

Ans:-  Rohtas

जय श्री कृष्णा जी
          जीव को चाहिये, नि:श्काम् कर्म करता हुआ, ध्यान योग द्वारा, अनन्य भग्ति कर, गुणातीत हो, परिमल प्रशन्न नारायण, प्रमेश्वर, की भली भान्ति खोज कर, समर्पित हो, उसकी शरण में जाना, जहां गये हुए पुरुष, "आत्मा" फिर लौट कर संसार में नहीं आते, और मोक्ष पद्ध को प्राप्त हो, परम आनन्दित हो, परम शान्ति को प्राप्त होते हैं। जो हमारा जीवन पाने का परम उद्धेश्य भी है।
विशेष:-
             लोर्ड श्री कृष्णा also explained in Geeta, 15/3 : । " उसी आदि पुरुष नारायण के मै शरण हूं।"
  


                                             Das Anudas Rohtas

WHENEVER LORD KALKI AVATAR WILL APPEARED ?

Que:-Suresh Nama---अध्यात्तम सागर प्रसन्नोत्तरी-शंका समाधान -  Facebook 19-10-17

         

       
Ans:- By Rohtas

नमस्कार जी,
               श्री मान जी, अनन्य भग्ति कर गुणातीत हो अर्थात दिव्यता को अनुभव करने की योग्यता हो जाने पर और प्रभू कृपा हो जाने पर, आपको भगवान के अवतरित होने का भास अवश्य हो जाएगा। भगवान तो नित्य प्राप्त हैं केवल उन्हें अनुभव करना होता है। भगवान अमर हैं Immortal हैं और हर रूप में जहां चाहें, वहां, प्रकट होने की क्षमता रखते हैं। 
             जहां तक कल्की भगवान के अवतर्ण की बात है परम पद्ध अमर है वह कोई पैदा होने वाला शरीर नहीं वह तो एक immortal Divine Power जब चाही प्रकट हो गई या यूं कहिये जब भी कोई भौतिक शरीर प्रभू भग्ति करता हुआ गुणातीत हो जाता है, प्रभू कृपा होने पर दिव्य गूण, दिव्य शक्तियां, Automatically incarnated in that virtuless free body . वैसे भी कृष्णा  ने दवापर में श्रीमद्धभागवत गीता अध्यन-४-शलोकां-७-८ अनुसार घोषणा की हुई है जब जब पाप बडता है धर्म की हानी होती है और साधू समाज का शोषण होता है तब तब मैं धर्म को पुन: अच्छी तरह स्थापना करने के लिये पाप कर्मियों का विनास कर सत्य धर्म को अच्छी तरह से स्थापित कर, सभ्य समाज की रचना करने हेतू, इस पवित्र धरा पर अवतरित होता हूं।
           सो भगवान अपने अति सुन्दर, मनोहारी, सरल, साकार, मोहनी रूप ,* मानूषं रूपं * दिव्य रूप में, साक्षात इस पवित्र धरा पर, इस सुन्दर सृष्टि में, सन् 1996 में, अपने दिये गये कथनानुसार, प्रकट हो चुके हैं। अब यह नहीं पता यह कलकि हैं या कोई ओर हैं, इसका निर्णय तो धर्म के ठेकेदार या यह सनातन समाज ही करेगा जो पहले से करता आया है।  भगवान प्रकट हो चुके हैं। हमने जो नाम दिया है वह निम्न है-

                   * मोतियों वाली सरकार *

 " जाकी रही भावना जैसी प्रभू मूर्त देखीं तिन तैसी, "
 " जाकी रही भावना जैसी प्रभू मूर्त दीखे तिन तैसी। "
                         ----------------------

        * जिन खोजा तिन पाया, गहरे पानी पैठ, *
        * मैं  बपुरा बूढन डरा   रहा  किनारे  बैठ। *

                                     दास अनुदास रोहतास

Sunday, October 15, 2017

* ORA * WHAT IS ORA ?


            What is Ora
                *******
Jai Shree Krishna Ji,
Very nice Question by Satish Pandey Ji on Face-Book :-----
Answer by Rohtas on 16-10-17-at, 12-30 am:---
        



                    Ora is a divine power which we can not see with our physical eyes, we can observe with the help of our divine third eye being introvert in internal divine universe. It is a Symbol of Divinity and circulates out side of our body, we can observe it during meditation only. A " Gunateet " true devotee blessed by God with divine virtues along with Divine Ora.

             " * ORA * Is A Simbol Of Divinity "
                                  **********
                       * My Ora is Sky-Blue *

                                                      Das Anudas Rohtas

Thursday, October 12, 2017

latest Global Divine Realization

         Latest Global Divine Realization in Meditation
                               ------------------------------

           
                                             Das Anudas Rohtas

Saturday, October 7, 2017

श्री राधा कृषण जी का विवाह किसके श्राप की वजह से नहीं हुआ ?

Que :----By Puja Shukla *** प्रशन्न पूछें *** उत्तर पाएं *** शंका समाधान ** on Face-Book *******
" राधा और कृष्ण जी का विवाह किसके श्राप की वजह से नहीं हुआ।

           


Answer By Rohtas :------------

परम स्नेही भग्तजन जी,

१.             श्री राधा जी, श्री कृष्ण जी, तो प्रमाणित एक हैं, उनकी शादी का प्रशन्न नहीं उठता । जिन्होने अनुभव किया है वह जानते हैं * यह दोनों एक शक्ति के दो पहलू हैं * Supreme Divine Tatav + Supreme Divine Power जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है।
2.             अदध्यात्मिक दृष्टि से यह अद्धभुत सुन्दर सृष्टि के बारे अद्धयन किया जाए तो सृष्टि मात्र जल है और जल क्या है इस के बारे में सब जानते हैं Hydrogen+Oxygen=Water, दूसरी ओर हमारे शरीर रूपी सृष्टि भी पुरुष (आत्म-तत्व )+प्रकृति के मेल से ही सम्भव है। सूर्य देवता और इसमें ऊषणता का घनिष्ट सम्बन्ध है, चन्द्रमा और चन्द्रमा में शीतलता का घनिष्ट सम्बन्ध है। अध्यसत्मिक दृष्टि से सभी तथ्यों पर गहराई से प्रकाश डाला जाय तो अन्दरूनी तौर पर दिव्यता से सब एक दूसरे से जुडे हुए हैं इसी प्रकार श्री राधा कृष्ण जी भी दिव्यता के आधार पर एक हैं
3.              श्री कृष्ण विष्णु के अवतार हैं सो राधा लक्ष्मी- "शक्ति" का अवतार स्वयं हो गयी। वास्तव में यह दो दिव्य शक्तियां आदि शक्तियां हैं अध्यात्मिक दृष्टि से परम-तत्व और दिव्य रिंग जो परम-तत्व कि ही दिव्य-शक्ति "माया" है और तत्व में से ही प्रकट  हुुई  हैं, जो अलग नहीं हैं आदि काल से ही हमारे पूज्य ऋषि मुनी संतों द्वारा इस Secrecy को गुप्त रखते हुए, Hinduism में इन्हें , विष्णु-लक्ष्मी, राधा-कृष्ण, सीता राम आदि नामों से जाना जाता है। * परम दिव्य तत्व एक है, परम दिव्य शक्ति भी एक है * और सृष्टि के प्रारम्भ में यह दोनों दिव्य शक्तियां ही Automatically, Systematically and Divinelly प्रकट होती हैं उसके बाद ही इस सुन्दर सृष्टि की रचना सम्भव होती है और यहि शक्तियां अंत:कर्ण में दिव्य परम आत्म तत्व एवं  बाह्य शक्ति के रूप में दिव्य रिंग, दोनों सृष्टि में एक साथ अवतरित होती हैं इस प्रकार Scientifically भी दोनों ही एक दूसरे के बिना अधूरे हैं जैसे चुम्बकिय शक्ति के बिना लोहे का टुकडा चूम्बक नहीं हो सकता। यह दोनों शक्तियां हम सब के बीच में सुन्दर दिव्य लीला की रचना रचते हैं।
                                 
                    जय श्री राधा कृष्णा जी   

                   

                                            दास अनुदास रोहतास

Tuesday, October 3, 2017

What is Tatav ?

Qes;------*** तत्व क्या है ? ***Face-book*** 1- Octuber,17

Answer by Rohtas:-----

श्री मान जी,

                   वैसे तो तत्व बहुत हैं अध्यात्मिक दृष्टि से, ये निम्न सात तत्व मेन हैं, प्रकृति के पांच तत्व- आकाश, अग्नि, जल, वायु, पृथ्वि, छटा तत्व आत्म तत्व सुक्ष्म बिन्द," as Dot " है, जिसके बिना यह सुन्दर सृष्टि अधूरी है, और सातवां तत्व दिव्य परम आत्म तत्व," चेतन तत्व " है।

                                                   दास अनुदास रोहतास

Tuesday, September 26, 2017

ऐसी कौनसी जगह है जहां जाने पर आत्मिक शान्ति मिले ?

                     

Que:---Joshi Purohit Dhilpa on Facebook Adhyatam Sagar Personotry Shanks Samadhan at 12-50 am on 26-9-17 ***** ऐसी कौन सी जगह है जहां जाने पर आत्मिक शसन्ति मिले ?
Answer by Minaxi Verma:--- * Death *
Reply by Rohtas :---

जय श्री कृण्णा जी,

                * Death के बाद शांति का अनुभव कौन करेगा बेटा जी *
सच्ची शांति तो केवल अनन्य भग्ति द्वारा प्राप्त मुक्ति पद्ध के बाद कुछ समय के लिये जिवात्मा को मिलती है वह भी पुन्य फल भोग पुनह: जन्म ले, शरीर धारण कर, जीव का अपने शेष कर्मों के लिये मृत्यु लोक में आना जाना लगा  रहता है यहां तक आवागमन का चक्र लगा रहता है। हां, प्रभू कृपा होने पर, मोक्ष पद्ध की प्राप्ती करने के बाद पून्य जिवात्मा," सूक्ष्म शरीर " जिसको प्रभू गुणातीत होने पर, अपना कृपा पात्र मान ,दया कर पून्य: दिव्य आत्मा को किसी लोक या किसी ऊंचे धाम मे निश्चित अवधि तक, शांति सुख भोगने के लिये स्वर्ग आदि लोक में भेज देते हैं । अर्थात केवल Holy Soul जिन्हे मोक्ष पद्ध का अधिकार पा लिया है, वही पून्य दिव्य आत्माऐं ऊंचे धाम स्वर्ग आदि लोक में शान्ति मय समय काल पूरा कर अंत में प्रलयकाल के समय प्रभू, परिमल पर्शन, Narayana की सही तरह खोज कर, उसकी शरण में समर्पित हो, योग होने पर, "परम धाम यानी", परम शान्ति का प्राप्त होती हैं।
 जय श्री राम

                        Om Shanti Ji

                                        दास अनुदास रोहतास

Saturday, September 23, 2017

* SUPREME SOUL * TATAV LEELA & KIND OF TATAV

             * SUPREME SOUL *
 Tatav Leela Darshana realization during meditation in internal divine universe by Tatvik- Rohtas in present Yuge, Kal-Yuge.
                     --------------
Kinds of Divine Tatav
                     ********
                              1. TATAV


2. Superior Supreme Tatav, " Par-Brahim Tatav "
VASHUKI Tatav
  

3. Adhi God Tatav

4.  Supreme Lord SESH- Tatav ," Vishnu Tatav "



5. Dav Tatav, 

  

5. Daties Divine TATASTH- Tatav, " Avatar Tatav "


6. Common Tatav, Tatav in Shristie


                      Das Anudas Tatavik Rohtas


Friday, September 15, 2017

Question is Soul are Limited or Unlimited


 Question by Anoop Kumar on adhyatemik Sager.   Question Answer, Shanka- Samadhan ------------Face-Book:---

******** Souls are Limited or Unlimited, and  Whome soul take re-birth in the World*** ?



Answer by Rohtas :---
*****"**********

    Jai Shree Krishna Ji

1. Superior Suprem Soul, is one
2. Formatted God's Supreme Soul is One
3. Supreme Soul Aadhi-God's Soul is one
4.  Supreme Soul Lord Trimurti God's Soul is           also One,
5.  Daties Souls are Limited
6. While Virtuous souls, Jiwattama's are Unlimited in many kind of human's & creature's bodies in this Wonderful and beautiful Shristi created by The Almighty God.

         And all these unlimited (Shristies ) Jiwattamas take Re-Birth again and again due to their's Karams (Fruit of Actions) on this Holy-Earth in this beautiful Divine Shristi.

                                  Das Anudas Rohtas

Friday, September 8, 2017

* What is God ? *

Thursday, September 7, 2017
                  * What is God? *

Que: ---- What is God ? ------ 

            Our heart felt greetings to all of you ! Jai Shri Krishna, dear self, was asked about our own, what is God?

 Answer: ------- by Rohtas -----       

            We want to remove this suspension. Now believe and do not believe it is the personal right all of us. We are all free. God is God, he is inferior while being a disciplinarian based on his divine latitude.
       
          The divine form of Lord God
  


             * God is the bitter truth.*

              God's ultimate authority never holds an incarnation. Lord Divine form is the only embodiment. Creation and appearance of God is completely Divinely, automatically and systematically generated, in the Shristi. Now there is no doubt, who appears or happens? God creates his own leela in the universe, first of all he composes the composition of his own divine, "format" The Formated God, which is absolutely perfect, his perfect divine quality, which is a perfect divine, is known in Hinduism as the name of God. This is what Adi God has created in the form of his Trigunya Maya Dhari, composition of Lord Brahma, Vishnu, Mahesh etc. and comprehends the creation of his three qualities and the Mahapralaya., These are Gods till God, and whenever they want it, gracefully becomes present before their ultimate Bhagat.

               We have come to God very closely and calmly.  God gave us special grace to show our Divine Reality in the form of beautiful Lord Narayana, in the form of God, which we have seen in our material worldly sight and after some time God has become infinite. This happens only after the Era-Yugantar when God appears on this sacred trust to encourage any of his ultimate characters in the form of Sarasvati in the form of a joy, and to encourage them. 

             Now we will only say that Lord is God. We've warrant Vishwash you fill, "God.

               * Realizing as Mr. Lord *
  

              On the other side, God is also a divine power, formless form of Divine form, whose philosophy is very rare. After doing this very unique exudence, by observing the personal divine eyes through the divine eyes, only by personal experience can it be observed only by the Yogis, And the bridegroom and the curious who are the ultimate bhaktas of God, they can observe and always earn and do the same. God's special mercy remains upon them.
Please be satishfied Now: -
            It is the matter of confidence and self realization. So there is value of self realization in meditation, spiritualuality and divinity and no one can show to others. 
   Spiritual Truth   
                               Das Anudas Rohtas

Avtari Purush Rohtas at 11:05 PM

Thursday, September 7, 2017

* क्या भगवान हैं ? *

Que:----क्या भगवान हैं ?------
            ----------------------

आप सब को हमारा हार्दिक नमस्कार !
जय श्री कृष्णा जी,

प्रिय आत्मजन्, हमारे से भी यह बात पूछी गई कि

क्या भगवान हैं ?
Answer:-------by Rohtas-----

             देखिये हम यह संका दूर करना चाहते हैं अब मानना और न मानना यह हम सबका व्यक्तिगत अधिकार है हम सब स्वतन्त्र है।
भगवान तो भगवान हैं वह तो अपने दिव्य अक्षांश पर निराकारा रूप में स्थितप्रज्ञ होते हुए विद्धमान हैं।
                          श्री भगवान का दिव्य निराकार रूप
  

* भगवान हैं यह कटु सत्य है।*

भगवान की परम सत्ता कभी अवतार धारण नहीं करती भगवान का दिव्य प्रारूप ही अवतार धारण करते हैं।
Creation and appearance of God is completely Divinely, automatically and Systematically generated, in the Shristi.

अब फिर प्रशन्न है, तो प्रकट कौन हुआ या होता है ?

भगवान सृस्टि में अपनी लीला खुद रचते हैं जिसमें सबसे पहले वो अपने एक दिव्य ," प्रारूप " The Formated God की रचना रचते हैं जो बिल्कुल अपने अनुरूप, पूर्ण दिव्य गुण सम्पन्न, जो पूर्ण दिव्य होता है यह हिन्दूइजम में आदि ईष्वर के नाम से जाना गया है यही आदि भगवान अपनी त्रीगुणी माया धारी, रचना द्वारा ब्रह्मं, विष्णु, महेष आदि भगवान की रचना रचते हैं और अपने तीनों गुणो से सृष्टि का पालना करते हैं और महाप्रलया तक यहि आदि भगवान होते हैं और जब भी यह चाहें कृपा कर अपने परम भगत के समक्ष प्रकट हो अन्तर्ध्यान हो जाते हैं।
हमनें भगवान को बहुत नजदीक व तसल्ली से निहारा है।
भगवान ने हम पर विशेष कृपा कर अपना दिव्य साकार मोहनी अति सुन्दरत्तम Lord Narayana रूप में साक्षात प्रकट हो दर्शन दे कृतार्थ किया, जिन्हें हमने अपनी भौतिक सांसारिक दृष्टि से साक्षात अवलोकन किया और फिर कुछ समय पश्चात भगवान अन्तर्ध्यान हो गये। ऐसा केवल युग-युगान्तर के बाद ही होता है जब भगवान अपने किसी परम पात्र को साक्षात रूप में दर्शन दे आनन्द विभोर कर प्रोत्साहित करने हेतू इस पवित्र धरा पर प्रकट होते हैं।
अब हम तो यही कहेंगे श्री भगवान हैं। हम आपको पूरण विष्वाश दिलाते हैं," भगवान हैंं।
                           * श्री भगवान का साकार रूप *
  

             दूसरे भगवान एक दिव्य शक्ति है निराकार दिवय रूप भी है जिनके दर्शन बहुत दुर्लभ हैं यह बहुत गहरी अनन्य भग्ति करने के बाद दिव्य नेत्रों द्वारा व्यक्तिगत दिव्य ब्रह्मांड में अन्तर्मुखी होने पर ही, व्यक्तिगत अनुभव द्वारा अवलोकन कर सकते हैं यह केवल योगी पुरुष दिव्य पुरुष, व लग्नेषू एवं जिज्ञाषू जो भगवान के परम भग्त हैं वो ही अवलोकन कर सकते हैं और हमेशा करते आय हैं और करते रहेंगे। भगवान की इन पर विशेष कृपा बनी रहती है ।
Please be Satishfied Now :--
            It is the matter of confidence and self realization. So there is value of self realization in meditation, Spirituality and Divinity and No one can show to others.

Latest Self Divine Realization during meditation and Original Divine Form of The Almighty God at 9-15 am on 14-9-17.

                * Triloki Ke Nath In Three Lokas *
   


                                       Das Anudas Rohtas

Monday, August 28, 2017

YOU ARE WELLCOMED IN SPIRITUALITY

             You Are WELLCOMED In Spirituality
                           ------------------------------------

 

* SHRISTI CHAKRA *
 Realization of Divine soul Chakra
Showing on base of Self-Realization during meditation in this beautiful video giving below, which we are observing since 1990.
***************
                   In fact our divine soul circulate like a Galaxy, circulate like the Sun. We can say it, the Main- Divine- Power, " THE POWER OF VIVEKA." We can observe Soul Chakra circulating during meditation, being INTROVERTED by Self-Realization, in‌। Internal Divine Universe, in all kind of Shristies (In all created-bodies), like Thal-Char, JAL-Char, Nab-Char.
      ---------------
      Self Divine Realization
     *****************
     
   
          Spiritual Truth
  
                                                 Das Anudas Rohtas

Saturday, August 26, 2017

What is the difference between incarnation and appearience of God


What is the difference between incarnation and appearience of God     ----------------------------------------

Que: - By Sharad Tivari Ji ... QUESTIONS *** REPLY *** Doubtful solution *** Facebook on: -------
                                ****************

    Answer by Avtari Purush Rohtas: --------
    

           Shriman G Persann is very fine. Here are two things to look for in both meanings are differents.

1. The manifestation of God: -
  

               The first thing is that the Superior Supreme Soul God is the God, in the true people, on the basis of their Divine Soul, as the astrologer, is steadfastly known. This divine supreme power never embodies, but only the divine form is embodied in the universe and Mahapalalaya Up until then, they are descended in every epoch. At the time of creation, God prepares one of His own divine powers and divine qualities, just like Similarly to Him, and giving ownership of creation to Adhi-God, who is Lord Supreme Soul, "The Formated God" Creates compositions which possess the powers of the three divine powers.
                * Generator, Operator, Destroyer *
Those who are known in Hinduism as Tirimurati-God, Lord Bharma, Lord Vishnu, Lord Mahesh, Jodi Tridev, Trigun-maya-Dhari Bhagwan. In short, everyone knows, in which the main-power Lord Vishnu has been considered. This same God is completely reconciling all his divine qualities and divine powers in His own right, due to his exquisite intentions, doing his utmost kindness before his ultimate bhagti, sometimes after the age-time, in this beautiful creation, his divine, etc. Shakti forms appear formless in body from Divine Beauty, beautiful, "Mohini Roop". And to see your ultimate bhaktat, do karnatra, and get meditation. 
            In every era, God is praised by the exquisite pleasure of his present-day ultimate affectionate person, and in order to make his confidant, in this beautiful creation, he appears in his beautiful, grand, divine, fascination, reality, "Manusha Roop-Narayani Roop" . Dharmavatara in Satyuga appeared here on the occasion of Shri Raja Harishchandra ji and the king sacrificed his kingdom and sacrificed all pleasures. In Treta Era appeared before Kaushalya Mata Ji and Prasottam Avatar appeared before Shri Ram ji and Ram ji also sacrificed the rajdharma and spent all his life as a living person. In the medicines, in the era, Vasudev ji and Devaki ji appeared before and the supreme incarnation lord Krishna became a confidant and spent all the lives in the forests and in the affection of the beasts and later became king, and also sacrificed the religion. And now in the present era of Kaliyuga, God has appeared in the above mentioned great Divine Powers very beautiful divine Narayani form which is depicted in the image above in 1996.

Special :----- - It is the matter of self appearience of God, We can Observed after kindness and blessings by God only, with our physical eyes in External universe, and not to Show others. 
                                -----------------------------
2. God's Incarnation : --------

              Now, we want to explain briefly about God's incarnation here, it is God's Superior Supreme Soul, "Supreme God" and when Lord become incarnate, then God Himself create one of His Divine Form, namely The Formated God composition spawn and that Aadhi Bhagavan then created His divine Triguni Maya known composed spawn name of Brahma Vishnu Mahesh God in Hinduijm. These both powers appear absolutely " Divine-Dot " in internal divine universe Vit is the Divine Ring as an External divine Power that, known as a Adisthan. We can only realize both these divine power. When a creature is multiplied, at the right time God is the ultimate element in place of this free body instead of element which is due to Adhi-God and the well-being body, which is also God's Divine Spirit,

Special :----- - Its the matter of self realization after the kindness and blessing by God, in inner divine universe with divine Eyes being introverted and not to show others.
  

              Now the divine power of God, The Formated God, embodies the embodiment. There is also a difference in this divine Kirya. According to Divinity, our bodies are also of two types, 1 Divine causal body, 2  Divine body is the body of Natural Virtuous bodies as Jiwatma, so in this way the incarnated body is a divine cause of physical body through with second divine body which happens through the bondage of natural properties. When the soul is engrossed with mail, it is the incarnation of the Divine Spirit, Incarnation of God says it happens when God created the universe in the universe Interpretation would then God knoweth that he send the creature to be born in a Sanskari Family so the world body, which is favorable, From the childhood to the time of embodiment of the incarnation, all the divine yoga transforms the adjacent verbs by multiplying the soul by multiplying by its own self. When it is multiplied, in this state the self element is free from the bondage of natural qualities. And it is possible to get yoga from the unrealized ultimate soul and in such a way, the supreme soul Lord can also be descended and the pride of being called an avatarari man is attained. Be careful ... 1 ... In such a state, it may be a disaster even if you are misguided; 2 ... God gives life-giving gift to the free creatures by giving Divinity and giving life to the creature, the divine person or the factor man-made in all the world, or by giving salvation, by providing re-life,
      Thanking You 
                            Universal Truth 
                                              Das Anudas Rohtas
   
Please Share

Thursday, August 24, 2017

* The God * What is the difference between incarnation and appearience of God

What is the difference between Incarnation and appearience of God.
                        --------------

Que :- by Sharad Tivari Ji... in प्रशन्न पूछें *** उत्तर पाएं *** शंका समाधान ***on Facebook :-------
    
  Answer by Avtari Purush Rohtas :--------


नमस्ते जी
              श्री मान जी प्रशन्न सुन्दर है। इसमें देखिये जी दो बातें हैं भगवान का सृष्टि में प्रकट होना और भगवान का अवतर्ण होना।  दोनों का अभिप्राय: अलग अलग है। उल्लेख करने का प्रयास करते हैं।

                          * The God *

1. भगवान का प्रकट होना:-


            पहली बात तो यह है Superior Supreme Soul God भगवान तो, सत्य लोक में अपने दिव्य अक्षांश पर As a Divine Dot सूक्षं बिन्द के रूप में स्थितप्रज्ञ, स्थिर रूप से विद्धमान हैं। यह दिव्य परम शक्ती कभी अवतार नहीं लेती केवल इनका दिव्य प्रारूप ही सृस्टि में अवतरित होता है और महाप्रलया तक अगेन एडं अगेन हर युग में अवतरित होते हैं। सृष्टि उत्पत्ति के समय भगवान अपनी समस्त दिव्य शक्तियों व दिव्य गुणों से सम्पन्न एक अपना प्रारूप बिल्कुल ठीक अपने जैसा, खुद तैयार करते हैं और सृष्टि का स्वामित्व प्रदान करते हुए, Adhi-God, जो Lord Supreme Soul है, " The Formated God " की रचना रचते हैं जिसके पास तीनों आदि ईश्वर के समस्त divine Quality 
All divine powers के अधिकार प्राप्त होते है। 

  *  Generator, Operator, Destroyer *

             जिन्हे हिन्दूईजम में त्रीमूरती भगवान, भ्रह्मा, विष्णु, महेष, जो त्रीदेव, त्रीगुणीमाया धारी भगवान के नाम से भी जाने जाते हैं। संक्षिप्त में सब जानते हैं, कि जिनमें Main-power विष्णु भगवान को माना गया है। यही भगवान अपने सभी दिव्य गुणों और दिव्य शक्तियों को अपने में पूर्णत: समेट कर, वश में कर, अनन्य भग्ति के कारणवश अपने परम भग्त के समक्ष अपनी परम कृपा करते हुए, युग-युगान्तर के बाद कभी न कभी संयोगवश इस सुन्दर सृष्टि में अपने दिव्य, आदि शक्ति स्वरूप निराकारा शरीर से दिव्य मनोहारी, सुन्दर साकार, " मोहिनी रूप " में साक्षात प्रकट होते हैं। और अपने परम भग्त को प्रोत्साहित करने हेतू दर्शन दे, कृतार्थ कर, अन्तर्ध्यान हो जाते हैं। 
            भगवान हर युग मे अपने स्थितप्रज्ञ परम स्नेही भग्तजन की अनन्य भग्ति से प्रशन्न हो, उसे अपना विश्वासपात्र बनाने हेतू इस सुन्दर सृस्टि में , अपने अति सुन्दर, भव्य, दिव्य, मोहनी, साकार रूप ," मानूषं रूपं- नारायणी रूप " में साक्षात प्रकट होते हैं। सत्युग में धर्मावतार श्री हरीश्चन्द्र जी के यहां विश्वामित्र के रूप में प्रकट हुए और राजा ने राजधर्म त्याग करते हुए राज महल राजपद् राज सुख सभी सुखों का त्याग कर दिया। त्रेता युग में कौशल्या माता जी के समक्ष विष्णु रूप में प्रकट हुए और प्रसोत्तम अवतार श्री राम जी के समक्ष महाकाल रूप में प्रकट  हुए और राम जी ने भी राजधर्म का त्याग कर और समस्त जीवन बनवासी जीवन के रूप व्यतीत कर, पवित्र सर्यू नदी में देह का त्याग किया। और दवापर युग में वासुदेव जी और देवकी जी के समक्ष भी लार्ड विष्णू के रूप में प्रकट हुए और परम अवतार कृष्णा ने भी विश्वासपात्र बन समस्त जीवन जंगलों में गईयां और ग्वालों के स्नेह में व्यतीत किया और बाद में राजा बन,  राज धर्म का भी त्याग किया। और अब भगवान वर्तमान युग कलयुग में भी भगवान अपने निम्न भव्य दिव्य बहुत सुन्दर नारायणी देह सहित दिव्य रूप से जो नीचे इमेज में दर्शाया गया है सन् 1996 में साक्षात प्रकट हो चुके हैं।


विशेष -----------
          It is the matter of self appearience of God, We can Observed after kindness and blessing by God only, with our physical eyes in this External universe, (in Physical World), but can not to Show other.

2. भगवान का अवतर्ण : -

              अब हम आप को यहां पर भगवान के अवतर्ण के बारे में संक्षिप्त में बताना चाहते हैं भगवान तो  " Superior supreme Soul God " हैं और स्थिर रूप में अपने दिव्य अंक्षाश पर स्थित हैं, विद्धमान हैं।  जब भगवान अवतार लेते हैं तब स्वयं भगवान अपने अनुरूप अपना एक प्रारूप His Similarly Divine Form, अर्थात The Formated God की रचना रचते हैं Lord Supreme Soul, आदि भगवान, Divine Dot and Divine Ring की सहायता से रचना रचते हैं और यह आदि भगवान खुद अपनी त्रीमूर्ती भगवान की रचना रचते हैं जो हिन्दूइजम में ब्रह्मा विष्णु महेष, देव आदिदेव त्रीदेव भगवान के नाम से जाने जाते हैं। यह दोनो शक्तियां एक दम प्रकट होती हैं Divine Dot in internal divine Universe को रोशसन्वित करता है जबकि Divine Ring as an External Power जो अधिस्थान के रूप मे बाह्य शक्ति के रूप में, बाह्य संसार को रोशान्वित करता है। We can only realized both these divine powers being Introvert. जब कोई जीव गुणातीत होता है, ठीक ऐसे वक्त भगवान इस मुक्तानन्द शरीर को, मुक्त तत्व की जगह परम तत्व जो Adhi-God का कारण शरीर है और सूक्षम शरीर हैं, जो भगवान की दिव्य जीवात्मा भी कह सकते हैं, मुक्त शरीर को प्रदान कर तत्व की अवतर्ण क्रिया को पूर्ण करते हुए, Divine-Dot and Divine-Ring- Powers रूपी दिव्य शक्तियां जो भगवान की दिव्य परम तत्व और दिव्य विवेक शक्ति है मुक्त जीव को प्रदान कर, आदि ईश्वर स्वयं अवतरित हो, अवतार धारण कर,  सृष्टि में अपने परम भग्तों के बीच, दिव्य लीला अवलोकन करने का अवसर प्रदान करते हैं।

विशेष -----------
              Its the matter of self realization after kindness and blessing by God we can realzed in internal divine universe with divine eyes being introverted and not to show others.


                 अब भगवान की यही दिव्य आदि शक्ति The Formated God ही अवतार धारण करती है। इसमें भी एक अन्तर है। दिव्यता के अनुसार हमारे शरीर भी दो प्रकार के होते हैं, १ दिव्य कारण शरीर, २ दिव्य सुक्षम शरीर और स्थुल शरीर होते हैं इसी प्रकार अवतरित शरीर एक दिव्य कारण शरीर और दूसरा दिव्य सुक्षम शरीर जो प्रकृतिक गुणों के बन्दन से होता है इन दोनों के मेल से जीवात्मा जब स्थूल शरीर में अवतरित होती हैं यही दिवय जीवात्मा को अवतार धारण करना, Incarnation of God कहते हैं ऐसा तब होता है, जब सृष्टि में भगवान अपनी लीला रचना चाहते हैं तो भगवान अन्तर्यामी हैं वह वैसा शरीर संसार में किसी संस्कारी परिवार में जन्म लेने के लिये उस जीव को भेजते है जो अनुकूल होता है, जो बचपन से लेकर अवतार धारण करने के वक्त तक सभी दिव्य योग आसन्न क्रियाओं को रूपान्तर करता हुआ अनन्य भग्ति द्वारा अपनी जीवात्मा से गुणातीत हो जाय। जब गुणातीत होता है तो इस अवस्था में आत्म तत्व प्राकृतिक गुणों के बन्धन से मुक्त होता है। और संशयरहित परम आत्मा से योग होना सम्भव हो जाता है और ऐसे में The supreme soul Lord स्वं भी अवतरित हो सकती हैं और अवतारी पुरुष कहलाने का गौरव प्राप्त हो जाता है। सावधान...१...ऐसी अवस्था में जी के पथभ्रष्ट होने पर अनर्थ भी, हो सकता है जी। २... भगवान मुक्त जीव को दिव्यता प्रदान कर दोबारा विष्व मे सभी  गुणों से सम्पन्न युक्त जीव को, दिव्य पुरुष का या कारक पुरूप के रूप में जीवन दान प्रदान कर देते हैं या, मोक्ष पद प्रदान कर, re-life प्रदान कर, अवतार के रूप मे एक महापुरुष के रूप में वापिस उसी शरीर को  जिवात्मा से उसी शरीर रूपी सृष्टि में दोबारा से संसार में भेज देते हैं जो अपने जीवन काल को पूर्ण कर स्वर्ग आदि ऊंचे धामों मे रहता हुआ, प्रलय:काल में अपने मोक्ष पद्ध् के अधिकार को प्राप्त कर सदुपयोग करता हुआ, परम आत्मा में लीन हो, भगवान की परम सत्ता से योग कर, परमानन्द को प्राप्त करता हुआ, परम शान्ती को प्राप्त होता है।

     धनयवाद सहित।

               Universal Truth

                                दास अनुदास रोहतास

Avtari Purush Rohtas at 12:37 AM

 Please Share