Tuesday, November 20, 2018

What Do You Mean By Supreme Atom Avatar

         
                            Supreme Atom Avatar
                                    *************


जय श्री कृष्णा                                                         
     
                   वैसे तो भगवान ने हर युग में किसी न किसी आदि शक्ति को लेकर इस सुन्दर सृष्टि में इस अद्धभुत पवित्र धरा पर दिव्य आदि शक्ति सहित अपनी पात्रता अनुरूप किसी न किसी प्राणी का शरीर धारण किया है ! सत्युग में धर्मावतार के रूप में, त्रेता युग में प्रसोत्तम पुरुष के अवतार के रूप में, दवापर युग में परम अवतार के रूप में और अब वर्तमान युग जिसे कलयुग के नाम से जाना जाता है में भी ईश्वर की परम दिव्य आदि शक्ति ने अति सूक्षमं अणु के रूप में " Supreme Atom " के रूप में .become incarnate divinely अवतरित हो चुके हैं और, शरीर धारण किया हुआ है। वेसे तो Atom के बारे में हमने संक्षिप्त रूप में पीछे कुछ उल्लेख दिया हुआ है। हमने अपने जो  अध्यात्मिक नोट लिखे है, वहां पर mostly Self Realization का जिकर किया है क्योंकि  व्यक्तिगत अनुभव का होना अध्यात्मिक दृष्टि से बहुत जरूरी है। व्यक्तिगत अनुभव न होने से हम किसी के व्यक्तव पर विश्वास नहीं कर सकते। पूरे विश्व में हर परम स्नेही भग्तजनों की यही इच्छा रहती है कि हमे भी भगवान के दर्शन हों। लगता है अब भगवान ने दिव्य सूक्षमं अणु के रूप में हम सब प्राणियों के बीच में अवतार धारण किया हुआ है और अणु के आकार, रंग रूप के बारे में जो, जैसा भी, हमारे अनुभव में आया, वैसा जो हमने Scientifically, Spiritually and Divinely realized in Atom Activation In Space In I D U में  अनुभव हुआ उसे हमने संक्षिप्त रूप से दर्शाने का प्रयास किया हुआ है। इसलिये कि भगवान अति सूक्षमं अणु के समान हैं जिनको अवलोकन करना इतना आसान नहीं है, और जो साधारण प्राणी की समझ व सूझ से बाहर का विषय है, हां केवल ईश्वर की विशेष कृपा होने पर उनके परम स्नेही भग्तजनों, लग्नेषू ,जिज्ञाषू , योगी, व अवतारी पुरुषों के अंतरमुखी होते हुए, चेतन अवस्था में जाकर मन, बुद्धी, ज्ञान व चेतनता के संयोग - वश अपने ज्ञानमय दिव्य चक्षुओं द्वारा ही, I D U में दिव्यता से अवलोकन करने का यह शुभ अवसर प्राप्त हो सकता है ।                                               
               Universal Truth                                         

                                        दास अनुदास रोहतास

Thursday, November 8, 2018

About Rohtas

                       About Rohtas

              * Servshrest Yogi Rohtas *


     " AVTARI PURUSH ROHTAS "

                   I was born in a small village Nahari in distt Sonipat Haryana India in a poor family. My father was a jeweller and a poor farmer also. I was blessed by God with great devine powers," Divine Light " since 1963 in my childhood. I was only twelve years old when I came to know some devine activities, happened to me. I experienced ' Devine Light, *PARABH-JIYOT* many time in my life since I was just thirteen. A great Yoga came in my life, after 1973.

                    I've been blessed with" Devine Lila " Avalokan. I've realised different divine and beautiful 'Roops' of God. Believely once God appeared to me and stay with me, in my bed room "SAKSHAT" in His Divya and beautiful 'Saakar roop' "MAANUSHAM ROOPAM", for about a couple of minutes. ATTENTION please- It's being confirmed, as per given in 'THE BHAGAWAT GITA's Adhaya 4, Shloka 7 and 8 by Lord Krishana in Dwaper-Yuge.

       Spiritual Truth

                                               Das Anudas Rohtas

Wednesday, November 7, 2018

What Do You Mean By Avtari Purush

Que:- now gets upset ................
          What is Avatari man ?

Answer  by Shree  Rohtas:---------

 * Servshrest Yogi Shree Rohtas Ji *

           

Namaskar Sir,

                  When the creatures in this wonderful world are beginning to believe in God, if it is God, then it is even easier to doubt the avatari man!

                   As a rectification, what is the sea? First of all, to know that the water which is water, and before that God created the universe which has been composed of many elements in the essence of creation, they will have to know that they will have to know as they meet with hydrogen + oxigen gases. Water is formed, it creates pressure of air, Moisture increases in the air, then the clouds are formed. A meeting of water is produced by meeting them and then rain falls down according to the rules of nature. Etc. etc. This sequence: all will have to know! So, what is its own existence, see the ocean on the very large part of the water collects huge amounts of water, it is called the sea, but this water came from where the water came from. What is your source of water in the sea, now see God be pleased, make the clouds in the sky, the baris started, made a tank with one boonded water, it became overflow, then the drain made,

                   On the other hand, now you see what is the incarnation of Avatar or God, but also to know about any avatar, we must know from reality. What is his existence? Uh is also the grace of God which is a special creature, A grace is on the character. All of us are only a part of God, but if we have compassion on one's organism, he is experiencing the divine power of a bloated viveka, while exercising on other divine powers, through his personal divine experiences, As the yogi is also Yoga, it gradually develops the supreme divine qualities and powers in its own right, and when a lot of experiences are expanded, Living is experiencing deep and great divine powers and it is a powerful experience, and in every creature or creature, the grace of the Lord, the divine qualities of the Lord and the divine powers are revealed, the glory of being called a avant-garde man It takes all that is known but it does not let it appear externally. But keep in mind, "
 Special: -----
                   "The way the water can be purified by purifying it, in the same way we can think of the animal living by the exquisite spirit, the Supreme Soul, purifying the soul, the ultimate father can sum up with the soul"

      * I do not have anything in me that is all yours *

                Seeing a avatari male ordinary man is seen in the physical sense, in the worldly view, we can see the world, but divine powers can only be experienced by the divine achievement only if we are able to perform deep devotion and worship of Lord ji Only grace can happen. And any Divine Eye-Stain person can recognize through his divine experience that it is an avatara man. Because avatari man is the special divine character of God's grace. On the outer part of her body is divine ora, Vivek is Divine Power which is rotated in the form of a Divine Ring and there is Divine Light which sometimes also becomes manifest which is known as the Pya-Jyot. Sometimes, by color change can be known or if it comes in contact with him and if he does, then by knowing the knowledge of his experiences, it can be that it can be an in-future male.

                  Therefore, just as the community does not have its own existence, it is not all the Lord's grace, so there is no existence of Avatar as well, it is all the blessing of God, if any of these things are seen here in this world, It does not exist, it is all the God's will that no one has ever known about. This whole creation is God's supernatural divine creation

     * God is God no one can be God *

                  The ultimate affectionate nation, the beloved India is a divine country. On this holy divine day, the Sage Muni Saints have been blessed by the Divine Men Yogi men and sometimes even after the Yuga Yugaav, Avatari men also take on the body, as in the Satyuga, Dharmwata, Shri Harishchandra In the Treta, in the incarnation of Shri Ram Chandra ji Purushottam Man, Shri Krishna became the incarnation of the Supreme Lord and now in the Kali Yuga, God's ultimate day Some where strength has made menu holds this beautiful creation on this sacred land in the middle of all of us. All the creatures want to do exquisite pleasure, by looking for the goodness of the Supreme Father who created this beautiful creation. So we should diligently seek that Supreme State GOD having reached which no one never returns and Refuge in Him, NARAYANA from whom emanted this beginning less Flow of Creation and meditate on Him, and be fully devoted in Him, go to the shelter and get the ultimate joy.

              Thence

                                   Das Anudas Rohtas

What do you mean by Avtari Purush

Que   अब प्रशन्न उठता है................
           अवतारी पुरुष से अभिप्राय क्या है ?

Answer  by  Rohtas:---------

                 * सर्वश्रेष्ठ योगी श्री रोहतास जी *


श्री मान जी नमस्ते,                                                        

          जब यहां इस अद्धभुत सुन्दर संसार में प्राणी भगवान पर ही शकां करने लगते हैं कि क्या भगवान हैं, तो अवतारी पुरुष के बारे में शंका करना तो और भी आसान हो जाता है !

   * उधारण के तौर पर,  समुद्र क्या है कोई बताय ? *

             सबसे पहले यह जानने के लिये हमें पानी की जो बून्द है और उससे पहले भगवान ने जो wonderful universe की रचना की उसमे अनेक प्रकार के तत्वों की जो रचना हुई उन्हे तात्विकता से लेना होगा, उनको जानना पडेगा जैसा कि hydrogen + oxigen गैसों के मिलने से पानी बनता है, उससे हवा का दबाव बनता है हवा में Moisture बढता है फिर बादल बनते हैं उनके आपस मे मिलने से पानी की एक बून्द तैयार होती है और फिर प्रकृति के नीयम अनुसार नीचे बरस पडती है आदि आदि यह क्रम: से सब जानना पडेगा ! इस प्रकार इसका अपना अस्तित्व क्या है, देखिये समुद्र एक बहुत बडे पृथ्वि के हिस्से पर बहुत बडी तादाद में पानी इकट्ठा हो जाता है उसे समुद्र कहते हैं लेकिन यह पानी आया कहां से। समुद्र में पानी का अपना स्रोत क्या है , अब देखिये भगवान ने कृपा की, आसमान में बादल बना, बारिस शुरु हुई, एक-एक बून्द पानी से तलाब बना, यह over flow हुआ, फिर नाली बनी, फिर नाला बना, फिर नदिया बनी और फिर यह पृथ्वि का वह निचला हिस्सा जहां पर चारों और से यह नदिया नाले सभी एक जगह आकर गिरे,  जिन्होने पृथ्वि पर इकट्ठा होने पर समुद्र कैसा एक भयंकर रूप बना लिया।

                दूसरी ओर अब आप देखिये अवतार या भगवान का अवतार क्या है किसी अवतार को जानने के लिये भी हमें तात्विकता से जानना होगा। उसका क्या अस्तित्व है उह भी भगवान की कृपा है जो किसी एक विशेष जीव- प्राणी, एक कृपा पात्र पर होती है। हम सब भगवान के एक मात्र अंश ही तो हैं किसी एक जीव पर कृपा होने पर वह एक एक बून्द रूपी viveka रूपी दिव्य शक्ति का अनुभव होने पर अन्य दिव्य शक्तियों पर योग करता हुआ अपने व्यक्तिगत दिव्य अनुभवों द्वारा अपने अन्दर जो प्रभू अंशी परम आत्म तत्व के रूप में विद्धमान है से भी योग होने पर धीरे धीरे परम दिव्य गुणों व शक्तिओं को अपने में विकसित कर लेता है और अनुभवों का बहुत विस्तार होने पर एक समूद्र की तरह बहुत गहरा और महान दिव्य शक्तियों का अनुभव करता है और यह शक्तिया अनुभव होने लग्ति हैं और जिस भी जीव या प्राणी मे प्रभू कृपा होने पर प्रभू जी के दिव्य गुण और यह दिव्य शक्तियां अवतरित होती हैं वह एक अवतारी पुरुष कहलाने का गौरव प्राप्त कर लेता है जिसे सब भान होता है पर वह बाह्य रूप से जाहिर नहीं होने देता। लेकिन ध्यान रहे," * यह सब भगवान की ही कृपा से अनुभव प्राप्त होता है जब तक मालिक की कृपा होती है यह दिव्यता तब तक ही बनी रहती है अत: यहां इस सुन्दर सृष्टि में जो जहां तक हम अनुभव करने की क्षमता रखते हैं सब भगवान की ही कृपा है*"
 विशेष:-----
                "  जिस प्रकार पानी को Purifying कर शुद्ध किया जा सकता ठीक उसी प्रकार हम अनन्य भग्ति द्वारा चिन्तन करता हुआ प्राणी जीवात्मा, आत्मतत्व को शुद्धीकर्ण करता हुआ Supreme Soul, परम पिता प्रमात्मा से योग कर सकता है "

       * मेरा मुझ में किछ नहीं जो कुछ है सब तेरा *

                देखने में एक अवतारी पुरुष साधारण पुरुष ही लगता है देखिये भौतिक यानी संसारिक दृष्टि से हम संसार को अवलोकन कर सकते है लेकिन दिव्य शक्तियों को तो केवल हम दिव्यता प्राप्त होने पर ही अनुभव कर सकते हैं जो हमें गहरी अनन्य भग्ति करने और प्रभू जी की विशेष कृपा होने पर ही हो सकता है। और कोई दिव्य नेत्र धारी पुरुष ही अपने दिव्य अनुभव द्वारा पहचान सकता है कि यह एक अवतारी पुरुष है। क्योंकि अवतारी पुरूष भगवान की कृपा का विशेष दिव्य पात्र होता है। उसके शरीर के बाह्य हिस्से पर दिव्य Ora होता है, Vivek Divine Power होती है जो एक Divine Ring के रूप मे चक्रित होती है और Divine Light होती है जो कभी कभी प्रकट भी हो जाया करती है जिसे प्रभ-ज्योत के नाम से जाना जाता है। कभी कभी रंग परिवर्तन से भी जाना जा सकता है या फिर उसके सम्पर्क में आकर request करने पर अगर वह कृपा करे तो अपने अनुभवों का जो knowledge होता है उसको जानने से  लग सकता है कि यह कोई अवतरी पुरुष हो सकता है।

           अत: जिस प्रकार समूद्र का अपना कोई अस्तिव नही सब प्रभू कृपा है ठीक उसी प्रकार अवतार का भी कोई अपना अस्तित्व नहीं, सब भगवान की ही कृपा होती है वैसे भी देखा जाए तो यहां इस संसार मे किसी भी वस्तू जीव या प्राणी का अपना कोई अस्तित्व नहीं है यह सब भगवान की माया जिसके बारे में आजतक कोई भी नहीं जान पाया है।  यह समस्त सृष्टि ही भगवान की अद्धभुत दिव्य रचना है

     " अत: भगवान तो भगवान हैं  प्रभू कृपा होने पर सब कुछ अनुभव होने के बाद व जान लेने के बाद भी प्राणी को अपने आपको भगवान नहीं समझना चाहिये भगवान की कृपा का विशेष पात्र * कृपापात्र * मानने की योग्यता हो जाती है "

             परम स्नेहि भग्त जनों,  प्रिय भारत देश एक दिव्य देश हैं इस पवित्र दिव्य धरा पर ऋषि मुनि संत दिव्य पुरुष योगी पुरुष होते आए हैं और कभी कभी युग युगान्तर के बाद परम शक्ति भी यहां अवतारी पुरुष के रूप में शरीर धारण कर लेती है जैसा की सतयुग में धर्मावतार श्री हरीष्चन्द्र जी, त्रेता में श्री राम चन्द्र जी पुरुषोत्तम पुरुष के अवतार हुए दवापर में श्री कृष्णा जी परम पुरुष के अवतार हुए और अब कलयुग में भी भगवान की परम दिव्य शक्ति ने हम सब के बीच में इस पवित्र धरा पर इस सुन्दर सृष्टि में अवतार धारण किया हुआ है। हम सब प्राणियों को चाहिये अनन्य भग्ति करते हुए, उस परमपिता प्रमात्मा NARAYANA की भली भांती खोज कर जिसने इस सुन्दर सृष्टि की रचना की, और जिससे इस सुन्दर सृष्टि की रचना का यह Beginning less प्रवाह प्रकट हो रहा है जहां पहुंचने पर आंशिक आत्म- तत्व फिर से इस मृत्यु लोक में भटकने हेतू  वापिस नहीं आता । जो इस सुन्दर सृष्टि की " आदि अंत और मध्य " तीनों अवस्थाओं का मालिक है इस परम-धाम का मालिक है,  उसमें  पूर्णत: समर्पित होते हुए, उसकी शरण में जाएं  और परम शान्ति प्राप्त कर, परम आनन्द को प्राप्त हों।

                            ॐ तत् सत्

                                              दास अनुदास रोहतास