Friday, July 17, 2015

" सौरमंडल के ग्रहों में हलचल, सूर्य देवता के गर्भ में निबरू देवता का सृजन "

    "सूर्य देवता के गर्भ में निबरू देवता का अवलोकन"
                    ----------------------------------



               जैसा की हम सब जानते हैं प्रिय: भारत देश एक अध्यात्मिक, धार्मिक, सनातनी व दिव्य देश है यंहा पर आदि काल से महापुरुषों, योगी पुरुषों दिव्य पुरुषों व अवतारी पुरुषों ने इस पवित्र धरा पर जन्म लिया एतिहास साक्षी है, और लेते रहेंगे। भारत देश में सूर्य को देवता व भगवान माना जाता है, जो सत्य है और माना जाना चाहिये। प्रकृति व पुरुष, समस्त प्राणी व जीव सभी का जीवन-आधार सूर्य देवता ही हैं। सभी सनातनी व सभी धर्म प्रेमी अपनी अपनी सूझ व समझ अनुसार सूर्य देवता को पूजते आए हैं, पूज रहे हैं और पूजते रहेंगे।
               संयोगवश हम भी सूर्य देवता को नमस्कार व पूजा करतें हैं जो हम से बनपाती है। मौसम साफ न होने पर, विधिवत् ३-८-१९९२ को १२-४० सांय, हम ने सूर्य नमस्कार किया तो सूर्य देवता की असीम अद्धभुत कृपा हुई। अवलोकन करने पर हमने देखा की सूर्या देवता के अन्दर एक पीले रंग का नींबू के आकार का नींबू के रंग में जो घडी में लगे पैन्डूलम की तरह दाएं -  बाएं बाहरी किनारे के साथ-साथ अर्ध-वृत की दूरी सीमा में अन्दर की ओर चक्र लगा रहा था, यह एक सूर्य देवता के गर्भ में पल रहे नव ग्रह की रचना थी। जिसे हम साक्षात अपनी आंखों से कई मिन्ट तक देखते रहे। सब से इसका हमने जिकर भी किया । हम सब को नमर्ता से कहते थे की नई सृष्टि सृजन हो चुकी है, लेकिन आम मानव होने के नाते किसी ने महत्व नहीं दिया और वैसे भी आम मुनष्य की समझ से बाहर है, जिसका पूरा रिकार्ड हमारे पास मौजूद है। यही " NIBIRU " हो सकता है या फिर पलूटो भी हो सकता है जिसको निम्न चित्र दू्ारा दरषाया गया है। जिसके सौरमंडल में शामिल होने पर हल चल हो सकती है।
                                  दास अनुदास रोहतास

Thursday, July 16, 2015

SOLAR SYSTEM MAY BE UPSET DUE TO SUN

                                    " Sun Leela"
We are looking with our open eye Three in One SUN
                                     Three In One
                                           ******

 



Equility between the image by Shree Vaid-Vyash Ji in Dwapar-Yuge And Rohtas image


                             Das Anudas Rohtas

Wednesday, July 15, 2015

" Solar System My Be Upset Due To Nibiru "

                      "NIBIRU IN SUN"
          We observed Nibiru in The Sun circulaiting in the sun at 12-40 pm, on 3-8-1992, like a Pandulam right and left for few minutes which showing in the image:-


                         Das Anudas Rohtas

Wednesday, July 1, 2015

SOLAR SYSTEM MAY BE UPSET IN FUTURE

Solar System Upset
                      ---------------------
          Solar system may be upset very soon due to collide some planets with each-other and dieing in Universe. Sun is going more effected due to higher enrgy. Sun is looking angery for some time.  Here we are going to show some image which realized facely and some during meditation given below:-

1. Normal Sun at 8-50am, on 26-6-2015.





2. Angry Sun by face at 8-52am, on 26-6-2015.





3. Sun during meditationin in internal divine universe at 8-54am, on 26-6-2015.





4. "Sorry", dangerable and horryble period of shots in Universe, Sun realizing as a Black-Hole, during taking Bath, in meditation, in internal divine universe, at 8-50am, on 29-6-2015. It may be dangerable 
time for Earth.








5. Supreme Tatav appeared in the center of Black-Hole like bright Star, "Later On, New Origin" in meditation, during taking Bath, at 8-55am, on 29-6-2015.



6. "SHRISTI" is safe. Now we are enjoying a very beautiful Shristi in internal Divine Universe. There is a very beautiful and peaceful starry night. All Stars twincling very brightly and they look very happy in the Sky at 9-15am, on 29-6-2015, during standing meditation and worshing before  Adhistan," God ".
      Universal Truth.



                                 
                              Das Anudas Rohtas