Wednesday, November 23, 2016

NIBIRU A NEW PLANET- X coming towards Earth very speedily

Latest divine realization
---------------
                    Nibiru coming down very speedily towards us. A divine realization in inner divine universe during meditation.


Special Information No- 4.
-------------- 
              Is It may be possible as we realize in (No-4) image ?  In this image we realized that No-3 image is pulling down and settled on the surface of the image No-4. Here is some thing special in No-4, It seems Earth is stable and Flat and there is no activities in it, while No-3 is circulating very speedily like a galaxy.
------------------
Das Anudas Rohtas
**********

विशेष:---ऊपर दर्शाया गया चित्र हमने ध्यान में अपनी भृकुटि के मध्य जो Internal Divine Universe है उसमें दिव्यता के आधार पर दिव्य नेत्रों दू्ारा बिल्कुल साफ साफ अनुभव हुआ है, जो इस प्रकार है ।

                  अब हम इसे जो इस अद्धभुत अति सुन्दर इमेज को जो ऊपर 4.अंकों में दर्शाई गई है इमेज के माध्यम से इसकी हिन्दी में व्याख्या करना चाहेंगें जो इस प्रकार है।

१.        जैसा के साफ दिखाई दे रहा है यह New Planet-x बहुत तीव्र गति से नीचे की ओर ब्रह्मांड को चीरता हुआ जिसकी दोनों किनारे अप्पर जोन में गैसों को टकराने से भयंकर आग पैदा हो रही है पृथ्वी की तरफ बढता दिखाई दे रहा है जिसके ऊपर दोनों ओर आग की लपटें दिखाई दे रही हैं।

२.         यहां साफ दिखाई दे रहा है कि आते आते इसका आकार बढ गया है जिससे इसकी गति भी बढ गई और दो की बजाए अब इसके पीछे ऊपर की और आग के शोले की बहुत बडी एक लो दिखाई दे रही है।

३.         अब तेज गति मे चक्र काटते काटते यहां इसने  न. ३. में   Galaxy का रूप धारण कर लिया या फिर पहले से कोई Galaxy यहां पर मोजूद होगी जिससे आकर यह निबरू टकराया जो साफ दिखाई दे रहा है जो बहुत तेजी से चक्र लगाती हुई नजर आ रही है जो ऊपर की ओर सफेद रंग की गैस छोडती हुई, देखने में बहत सुंदर नजर आ रही है और इसके ठीक मध्य मे Dark- Brown रंग का निबरू नजर आ रहा है Galaxy +Nibiru दोनो यहां ठीक कुम्हार के चाक की तरह बहुत तीव्र गती से चक्कर काटते हुए नजर आ रहे हैं।

४.          अब यहां पर विशेष ध्यान देने योग्य बात यह है कि यहां पर उपर्ओक्त ३ न. इमेज ज्यों की त्यों चक्र. काटती हुई Galaxy+Nibiru समेत एक  पृथ्वि जैसे ग्रह पर जो अपनी जगह पर बिल्कुल स्थिर है, अचल है, के ऊपर आकर मानो टकरा जाती है। और स्थापित सी हो जाती है लेकिन विशेषता यह है कि ऊपर का हिस्सा Nibiru +Galaxy तो दोनो बहत तेजी से circulating कर रहा है जबकी निचे का पृथ्वि जैसा ग्रह अब भी यहां पर अपनी जगह पर अचल रूप मे विराज मान है।
यह सब हमने ध्यान मे श्री परमपिता प्रमात्मा की असीम कृपा से अन्तर्मुखी होते हुए भृकटि के मध्य में जो दिव्य ब्रह्मांड है उसमें अनुभव हुआ है यह कोई अन्य धरा या कोई New पृथ्वी or New Shristi भी हो सकती है, जिसे हमनेआप तक इस चित्र के सहायता से पहुंचाने का प्रयास किया है जो बिल्कुल सत्य अनुभव है सो मानवता को समर्पित है।
" आध्यात्मिक सच्चाई "
**********
दास अनुदास रोहतास
---------------
" Nibiru a new planet X, I saw with my open eyes in" 1992.
विशेष:---                                                                    
               आदर्णिय परम स्नेही भग्त जन व परम स्नेही मित्रों, जिस Nibiru देवता का सूर्य देवता के गर्भ में सन् 1992 से भी पहले से सृजन हो रहा था, अब वह उस गर्भ अवस्था से बाहर हमारे अद्धभुत सुन्दर ब्रह्मांड में प्रवेश हो चुका है, जिसे वैज्ञानिकों के अनुसार भी सूर्य देवता की बाहरी परिधि में व सूर्य देवता के आस पास, अपनी रंग-बिरंगी, हरी, नीली, लाल पीली रंगों में छंटा, बिखेरता हुआ क्रमष: साक्षात अनुभव किया जा रहा है! हमने इसे Spiritually, 9-15 am पर 25-1-17, को भी ध्यान में internal divine universe में अनुभव किया है। आज जैसे ही यह iinternal divine universe में ध्यान में आसमान में नजर आया, एकदम, समस्त आसमान कुछ समय के लिये Blue-Green रंग से प्रकाशित हो उठा।
-------------------
" It seems, Nibiru may be more Powerful than any other planets in Universe."
-------------------
We show it with the help of a Video given below


https://youtu.be/eKEcXiasbJc
                              --------------------------------

  Hole:---    
                    We observed during meditation a great Hole in internal divine universe at 10-30 am on 29-11-2016 which we show with the help of a image giving below.

Speciality of this hole is:-
      1.  It is Stable.
      2.  There is no circulation in it
      3.  It is a direct downward flow of its currents
      4.  It may be dangerable and shockful Hole.😢 😢
                         
                                     OM SHANTI


OM SHANTI SHANTI OM

********
                                          Das Anudas Rohtas

1 comment: